DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › हरिद्वार › सुनवाई में उठा अनाथालय में बच्चे से कुकर्म का मामला
हरिद्वार

सुनवाई में उठा अनाथालय में बच्चे से कुकर्म का मामला

हिन्दुस्तान टीम,हरिद्वारPublished By: Newswrap
Sat, 14 Dec 2019 12:07 AM
सुनवाई में उठा अनाथालय में बच्चे से कुकर्म का मामला

जिला मुख्यालय सभागार में बाल संरक्षण आयोग की सुनवाई के दौरान अनाथालय में बच्चे के साथ कुकर्म का मामला सामने आया। पीड़ित बच्चे की मां ने आयोग से न्याय मांगा। आरोपी समेत अनाथालय प्रशासन की भूमिका पर सवाल उठाते हुए समझौते को दबाव बनाने का भी आरोप लगाया।

बाल आयोग के सदस्यों ने बाल श्रम शिकायतों से संबंधित जन सुनवाई जिला मुख्यालय सभागार में की। इसमें विभागों की लापरवाही की कुल 40 शिकायतें सामने आईं। आयोग ने इन्हें 15 दिन के भीतर निस्तारित करने के निर्देश दिए। आयोग में रजिस्टर्ड शिकायतें सुप्रीम कोर्ट को भेजी जाएंगी। सुनवाई में बहादराबाद के एक अनाथालय में अध्यनरत कक्षा पांच के छात्र की मां ने आयोग प्रतिनिधियों से कहा कि वहां के आचार्य ने उसके बेटे के साथ कुकर्म का प्रयास किया। मुकदमा दर्ज किए जाने के बाद भी समझौते को दबाव बनाया जा रहा है। अनाथालय प्रशासन भी उनके ऊपर मामले को रफा-दफा करने का दबाव बना रहा है। इस पर आयोग ने संबंधित विभाग को निष्पक्ष जांच कर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए।फैयाज अहमद व प्रमोद कुमार ने जन्म प्रमाण पत्र बनाने का मसला सामने रखा। इसका मौके पर ही उपजिलाधिकारी कुश्म चौहान ने निस्तारण किया। राजकीय प्राथमिक विद्यालय अभिभावक संघ अध्यक्ष आनेकी निवासी अतुल कुमार ने कहा कि विद्यालय में प्रत्येक बुधवार छात्राओं से पांच रुपए लिए जाते हैं। लेकिन उनका सामान अध्यापक उपलब्ध नहीं करा रहे हैं। मुख्य शिक्षा अधिकारी डॉ.आनंद भारद्वाज ने मौके पर ही इस समस्या का निस्तारण किया। कक्षा नौ की छात्रा ने आयोग से कहा कि उसके माता पिता का देहांत हो चुका है। वह एक निजी स्कूल में शिक्षा ग्रहण कर रही है। नाना नानी के घर बुजुर्ग होने के कारण उसकी पढ़ाई लिखाई में परेशानी आ रही है। जिस कारण उसे छात्रवृत्ति की आवश्यकता है। आयोग ने समाज कल्याण विभाग को नियमानुसार छात्रा को छात्रवृत्ति उपलब्ध कराने को कहा है।

संबंधित खबरें