DA Image
23 सितम्बर, 2020|2:27|IST

अगली स्टोरी

हाईकोर्ट ने फीस वसूली पर सरकार से मांगा जवाब

default image

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने मंगलवार को निजी और अर्ध शासकीय स्कूलों की ओर से लॉकडाउन के दरमियान अभिभावकों से बच्चों की फीस वसूली के खिलाफ दायर जनहित याचिका पर प्रदेश सरकार से दो सप्ताह में जवाब मांगा है। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश रवि मलिमथ और आरसी खुल्बे की खण्डपीठ ने मामले की अगली सुनवाई दो सप्ताह बाद तय की है। देहरादून निवासी जपिंदर सिंह ने लॉकडाउन के दौरान निजी और अर्द्ध शासकीय विद्यालयों में पढ़ रहे छात्र-छात्राओं की तीन माह की फीस माफ करने और इस मामले में व्यवहारिक नीति बनाने की मांग करते हुए जनहित याचिका दायर की है। याचिकाकर्ता का कहना है कि सरकार की ओर से निजी-अर्द्ध शासकीय विद्यालयों को लॉकडाउन अवधि की ट्यूशन फीस लेने के आदेश दिए हैं। मगर कई विद्यालयों की ओर से अभिभावकों पर मार्च, अप्रैल माह की फीस जमा कराने के लिए काफी दबाव डाला जा रहा है। याचिकाकर्ता के मुताबिक ऑनलाइन कक्षाओं में पढ़ने के लिए अभिभावकों के पास साधन और इंटरनेट व्यवस्था भी नहीं है। राज्य सरकार के पास अपना नेशनल चैनल दूरदर्शन है। उसके जरिए कक्षाएं चलाई जाएं, क्योंकि हर घर टीवी है और दूरदर्शन भी आता है और टेलीविजन भी लगे है। जिससे बच्चों को पढ़ने में आसानी होगी। याची ने दूरदर्शन के माध्यम से क्लासेस शुरू करने की मांग की है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The High Court asked the government to answer on the collection of fees