People of Basti in hospital No one to serve feed to cattle - बास्ती के लोग अस्पताल में, पशुओं को चारा देने वाला तक नहीं DA Image
10 दिसंबर, 2019|6:15|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बास्ती के लोग अस्पताल में, पशुओं को चारा देने वाला तक नहीं

शादी के भोजन में फूड प्वाइजनिंग के बाद जहां पूरा बास्ती गांव बीमारी की चपेट में है, वहीं गडेरा गांव का हाल भी बेहाल है। घरों में इक्का-दुक्का लोग ही सकुशल बचे हुए हैं। इससे गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है। हालत यह है कि अब यहां मवेशियों को चारा-पानी तक देने वाला कोई नहीं है। 
कपकोट विधानसभा के बास्ती गांव में फूड प्वाइजनिंग की घटना ने सभी को झकझोर कर रख दिया है। घटना ने एक हंसता-खेलता खूबसूरत गांव उजाड़कर रख दिया है। 100 मवासे वाले इस गांव के करीब 450 लोग फूड प्वाइजनिंग का शिकार हुए हैं। गांव में सिर्फ कुछ बुजुर्ग ही शेष बचे हुए हैं। इससे पूरा गांव वीरान सा पड़ गया है। गांव की हालत यह है कि यहां मवेशियों को चारा-पानी तक देने वाला कोई नहीं है। मवेशी भूख-प्यास से तड़प रहे हैं। 

कुशलक्षेम लेने को अस्पतालों में उमड़े रिश्तेदार
फूड प्वाइजनिंग की घटना के बाद लोग अपने रिश्तेदारों की कुशलक्षेम लेने को बागेश्वर, कांडा, बेरीनाग और हल्द्वानी अस्पताल में बड़ी संख्या में पहुंचे। लोगों ने सरकार से बीमारों को बेहतर उपचार देने और घटना की सीबीसीआईडी जांच की मांग की है।

ग्राम प्रधान भी हुई फूड प्वाइजनिंग का शिकार 
ग्राम प्रधान दीपा देवी पत्नी देवेंद्र सिंह भी फूड प्वाइजनिंग का शिकार हुई हैं। उनका बेरीनाग सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उपचार चल रहा है। उन्होंने कहा कि 500 से अधिक लोगों को बारात में आमंत्रित किया गया था।  
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:People of Basti in hospital No one to serve feed to cattle