ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंड हल्द्वानीसालभर में मात्र 0.24 फीसदी युवाओं को मिली निजी नौकरी

सालभर में मात्र 0.24 फीसदी युवाओं को मिली निजी नौकरी

- सालभर में जिलों में आयोजित रोजगार मेलों में मात्र 2161 युवाओं को नौकरी मिली

सालभर में मात्र 0.24 फीसदी युवाओं को मिली निजी नौकरी
हिन्दुस्तान टीम,हल्द्वानीTue, 27 Feb 2024 11:30 AM
ऐप पर पढ़ें

- सालभर में जिलों में आयोजित रोजगार मेलों में मात्र 2161 युवाओं को नौकरी मिली
- प्रदेश के रोजगार दफ्तरों में 8.87 लाख से अधिक बेरोजगार पंजीकृत

चन्द्र प्रकाश आर्या

हल्द्वानी। राज्य का सेवायोजन विभाग युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने में फिसड्डी साबित हो रहा है। सालभर में मात्र 2161 बेरोजगार युवाओं को ही सेवायोजन विभाग के रोजगार मेलों के माध्यम से निजी संस्थानों में नौकरी मिल पाई है। जबकि राज्य के सेवायोजन कार्यालयों में 8.87 लाख से अधिक बेरोजगार पंजीकृत हैं। इस लिहाज से रोजगार प्राप्ति की दर महज 0.24 प्रतिशत ही रही। रोजगार के अवसर नहीं मिल पाने से राज्य में बेरोजगारों की फौज बढ़ रही है।

सेवायोजन विभाग ने बीते वर्ष 1 अप्रैल से 31 दिसंबर तक प्रदेश के सभी 13 जिलों में 131 रोजगार मेलों का आयोजन किया। इन रोजगार मेलों में 12351 युवा रोजगार पाने के लिए पहुंचे, लेकिन इनमें से मात्र 2161 युवाओं को ही सिडकुल की विभिन्न कंपनियों सहित निजी संस्थानों में नौकरी मिल पाई। ऊधमसिंह नगर जिले के सर्वाधिक 342 युवाओं का चयन हुआ। जबकि राज्य के सेवायोजन कार्यालयों में साल 2023-24 में 887421 बेरोजगार पंजीकृत हैं। आकड़ों से साफ है कि सेवायोजन विभाग युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने में नाकाम साबित हो रहा है।

कोट:

रोजगार मेलों के जरिए अधिक से अधिक युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के प्रयास किए जा रहे हैं। मेलों में विभाग की ओर से विभिन्न कंपनियों को बुलाया जाता है, कोशिश रहती है कि अधिकांश बेरोजगारों का चयन हो, लेकिन कंपनियां रिक्तियों की संख्या के अनुरूप ही अभ्यर्थियों का ही चयन करती हैं।

-संजय कुमार, निदेशक, सेवायोजन विभाग।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें