ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंड हल्द्वानीहल्द्वानी को डस्टबिन मुक्त शहर बनाने के लिए कार्य करें अधिकारी: कमिश्नर

हल्द्वानी को डस्टबिन मुक्त शहर बनाने के लिए कार्य करें अधिकारी: कमिश्नर

जन सुनवाई: - कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत ने जन सुनवाई में अधिकारियों को दिए...

हल्द्वानी को डस्टबिन मुक्त शहर बनाने के लिए कार्य करें अधिकारी: कमिश्नर
हिन्दुस्तान टीम,हल्द्वानीSat, 24 Feb 2024 07:45 PM
ऐप पर पढ़ें

हल्द्वानी, मुख्य संवाददाता।
कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत ने जन सुनवाई के दौरान नगर निगम के अधिकारियों को हल्द्वानी शहर को डस्टबिन मुक्त बनाने के निर्देश दिए हैं। कहा कि शहर को डस्टबिन फ्री बनाकर ही कूड़े के ढेर कम किए जा सकते हैं।

शनिवार को कैंप कार्यालय हल्द्वानी में जन सुनवाई के दौरान आयुक्त ने निगम के अधिकारियों को डोर-टू-डोर कूड़ा उठाने की व्यवस्था शहर के प्रत्येक वार्डों तक सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। आयुक्त ने नगर आयुक्त को निर्देश दिए कि शहर में डस्टबिनों की संख्या न्यून करने के साथ ही घरों से कचरा उठाने की व्यवस्था को मजबूत करें। कहा कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि में किसानों द्वारा केवाईसी सत्यापन का कार्य प्रतिवर्ष किया जाता है, लेकिन कुछ किसानों द्वारा केवाईसी सत्यापन नहीं कराने से किसान सम्मान निधि किसानों के खातों में नहीं जा पाती है। उन्होंने सभी किसानों से अपील की है कि प्रत्येक वर्ष प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का अपडेशन अवश्य करें। जन सुनवाई के दौरान एकता विहार में सड़क पर रैंप बनाकर अतिक्रमण किए जाने के मामले का समाधान होने पर क्षेत्रवासियों ने आयुक्त का आभार व्यक्त किया। शहर के एक स्कूल में आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण बच्चे फीस जमा नहीं कर पाने पर उसे परीक्षा नहीं बैठने देने का मामला आयुक्त के पास रखा गया। आयुक्त के कहने पर स्कूल प्रबंधन ने बच्चे को परीक्षा में सम्मलित होने की सहमति दी। अभिभावक और स्कूल में सहमति बनी की बकाया फीस को छोड़ते हुए अब हर माह की फीस अभिभावक देंगे ।

समझौते के आधार पर भूमि विवाद निपटाया

आयुक्त ने जनसुनवाई के दौरान दोनों पक्षों में समझौता कराकर भूमि विवाद को निपटाया। पिथौरागढ़ निवासी हेमा बसेड़ा ने बताया कि वर्ष 2019 में उन्होंने हल्द्वानी में अल्मोड़ा निवासी महिला से 2000 स्वायर फिट भूमि क्रय की थी। इस दौरान जमीन विक्रेता दीपा वाणी ने दूसरी भूमि संदीप वाणी को 2000 स्वायर फिट दान में दी थी। संदीप वाणी ने उक्त भूमि को विनुली देवी को क्रय कर दी थी। लेकिन वर्तमान में हेमा बसेड़ा की भूमि 200 फीट स्थल पर कम निकली। आयुक्त ने दोनों पक्षों को तलब कर हेमा बसेड़ा को 200 फीट भूमि देने तथा दूसरे पक्ष विनुली देवी को 200 स्वाक्यर फीट भूमि का मुआवजा देने को सुलह कराई। जिस पर दोनों पक्षों ने आयुक्त का आभार व्यक्त किया।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें