DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महाकवि निराला का टाइपराइटर बनेगा डीएसबी परिसर की शान

महाकवि सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ का टाइपराइटर अब कुमाऊं विश्वविद्यालय के डीएसबी परिसर नैनीताल स्थित संग्रहालय की शान बढ़ाएगा। भाकपा (माले) केंद्रीय कमेटी के सदस्य कामरेड पुरुषोत्तम शर्मा ने यह टाइपराइटर रविवार को कुमाऊं विवि के डीएसबी परिसर के नैनीताल स्थित संग्रहालय को समर्पित कर दिया है।
साल 1988 में इस टाइपराइटर को एक धरोहर के रूप में क्रांतिकारी कवि गोरख पांडेय ने कामरेड पुरषोत्तम शर्मा को सौंपा था। तब से शर्मा ने इस टाइपराइटर को अपने पास सुरक्षित रखा था। रविवार को संग्रहालय में आयोजित एक कार्यक्रम में पुरषोत्तम शर्मा ने कहा कि उन्होंने यह टाइपराइटर डीएसबी परिसर के संग्रहालय को भेंट करने का निर्णय लिया है। संग्रहालय के संचालक बीसी शर्मा ने उनके इस निर्णय पर आभार जताते हुए कहा कि यह हमारी अमूल्य धरोहर है, जिससे आने वाली पीढ़ियों को प्रेरणा मिलेगी। साथ ही युवाओं को सीखने का मौका भी मिलेगा। 

कुमाऊं विवि के नैनीताल स्थित डीएसबी परिसर संग्रहालय के संचालक बीसी शर्मा और शिक्षक नेता नवेन्दु मठपाल इसे लेने मेरे पास बिन्दुखत्ता पहुंचे। मैंने इसे संग्रहालय के लिए राष्ट्र की धरोहर के रूप में सौंप दिया है।     
-कामरेड पुरुषोत्तम शर्मा 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Nainital Mahakavi Suryakant Tripathi Nirala Typewriter Kumaun University Museum at DSB campus will enhance the glory