DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एवरेस्ट फतह करना चाहती हैं पर्वतारोही शीतल

पिथौरागढ़ की शीतल कंचनजंघा (8586 मी.) फतह करने के बाद अब एवरेस्ट पर तिरंगा फहराने की ख्वाहिश रखती हैं। शीतल, कंचनजंघा तक पहुंचने वाली दुनिया की सबसे कम उम्र की महिला पर्वतारोही हैं। 
रन टू लिव संस्था के कार्यक्रम में पर्वतारोही योगेश गर्ब्याल संग नैनीताल पहुंची शीतल ने हिन्दुस्तान से एक भेंट में बताया कि उनका लक्ष्य अब 8848 मीटर ऊंचे एवरेस्ट को फतह करना है। अपने दम पर कंचनजंघा तक पहुंचने वाली शीतल प्रदेश में युवा खिलाड़ियों के लिए विशेष व्यवस्था नहीं होने से दुखी हैं। उनका कहना है कि प्रदेश में पर्वतारोहण के लिए सरकार के पास कोई नीति ही नहीं है। 21 मई 2018 को कंचनजंघा में पहुंचने का कीर्तिमान स्थापित करने के बाद प्रदेश में उन्हें कोई विशेष सम्मान नहीं मिला है। 
प्रदेश के वित्त मंत्री प्रकाश पंत ने उन्हें शाल ओढ़ाकर सम्मानित जरूर किया। 22 वर्षीय शीतल ने पर्वतारोहण की शुरुआत एनसीसी के माध्यम से शुरू की। जीआईसी सातसिलिंग से इंटर और राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय पिथौरागढ़ से ग्रेजुएशन करने वाली शीतल ने बताया कि वर्ष 2014 से शुरुआत करने के बाद अब तक वह रुद्रगैरा, रेनोक, देवटिब्बा, त्रिशूल, सतोपंत की चोटी फतह कर चुकी हैं।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Moutaineer Sheetal wants to conquer Mount Everest