DA Image
21 सितम्बर, 2020|6:14|IST

अगली स्टोरी

जेईई : हल्द्वानी में तीन केंद्रों पर करीब आधे अभ्यर्थियों ने पेपर छोड़ा

जेईई : हल्द्वानी में तीन केंद्रों पर करीब आधे अभ्यर्थियों ने पेपर छोड़ा

1 / 3संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) मंगलवार को कोरोना के साए में शहर के तीन केंद्रों पर आयोजित की गई। मगर पहले ही करीब आधे ही परीक्षार्थी पेपर देने...

जेईई : हल्द्वानी में तीन केंद्रों पर करीब आधे अभ्यर्थियों ने पेपर छोड़ा

2 / 3संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) मंगलवार को कोरोना के साए में शहर के तीन केंद्रों पर आयोजित की गई। मगर पहले ही करीब आधे ही परीक्षार्थी पेपर देने...

जेईई : हल्द्वानी में तीन केंद्रों पर करीब आधे अभ्यर्थियों ने पेपर छोड़ा

3 / 3संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) मंगलवार को कोरोना के साए में शहर के तीन केंद्रों पर आयोजित की गई। मगर पहले ही करीब आधे ही परीक्षार्थी पेपर देने...

PreviousNext

संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) मंगलवार को कोरोना के साए में शहर के तीन केंद्रों पर आयोजित की गई। मगर पहले ही करीब आधे ही परीक्षार्थी पेपर देने पहुंचे। हालांकि एनटीई की ओर से दो पालियों में कराई गई परीक्षा में कोविड सुरक्षा के लिए पर्याप्त इंतजाम थे। मगर छात्रों के बीच संक्रमण को लेकर खौफ साफ नजर आया। गौरतलब है कि जेईई 6 सितंबर तक होनी है।नैनीताल जिले के परीक्षार्थियों के लिए हल्द्वानी में चार परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इनमें आईओएन डिजिटल जोन तीनपानी, आईओएन डिजिटल जोन छड़ायल, क्वींस पब्लिक स्कूल नैनीताल रोड और क्वींस पब्लिक स्कूल दमुआढूंगा हैं। पहले दिन क्वींस पब्लिक स्कूल दमुआढूंगा को छोड़कर बाकी तीनों केंद्रों पर परीक्षा आयोजित की गई। एनटीई को-ऑर्डिनेटर मंजू जोशी ने बताया कि 6 सितंबर तक होने वाली ऑनलाइन परीक्षा के लिए कुल 4868 परीक्षार्थी पंजीकृत हैं। पहले दिन मंगलवार करीब 275 परीक्षार्थियों को शामिल होना था। मगर 50 फीसदी ही शामिल हुए। पहली पाली में सुबह 9 से 12 तक और दूसरी पाली में 3 से 6.30 बजे तक पेपर हुए। परीक्षा के दौरान कोविड-19 गाइडलाइन का पूरा ध्यान रखा गया है। केंद्रों पर सेनेटाइजर और मास्क के पूरे इंतजाम हैं। परीक्षा के उत्साह के बीच कोविड का खौफपरीक्षा देकर निकले छात्र-छात्राओं में पेपर के प्रति काफी उत्साह दिखा। मगर कोविड-19 का डर भी साफ झलक रहा था। उनका कहना था कि पेपर तो ठीक रहा मगर कोविड को लेकर कहीं ना कहीं मन में डर है। अधिकांश बच्चे जिले के विभिन्न क्षेत्रों से निजी साधन या टैक्सियों में पहुंचे थे। बच्चों और अभिभावकों का कहना था कि सार्वजनिक परिवहन न होने से पूरी टैक्सी बुक करा कर आना पड़ा है, जिसमें काफी खर्च हुआ।पेपर ठीक हुआ। किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं हुई। कोरोना को लेकर मन में डर जरूर लग रहा था। - संजना, नैनीताल गाड़ियां नहीं चलने की वजह से मुझे अपने पापा के साथ टैक्सी बुक करा कर आना पड़ा। पेपर ठीक हुआ किंतु कोरोना को लेकर थोड़ा डर लग रहा था।-स्वाति, रामनगरपेपर अच्छा हुआ। मैं अपने पापा के साथ कार में पेपर देने आई। परीक्षा केंद्र में कोविड-19 के नियमों का पूरा पालन किया जा रहा था। -साक्षी, नैनीतालमैं अपने चाचा के साथ पेपर देने आया हूं। पहाड़ में कोरोना का असर नहीं के बराबर है। इसलिए हल्द्वानी पेपर देने आने में डर भी लग रहा था। परीक्षा केंद्र में नियमों का पालन किया जा रहा था। -दीपू, मुक्तेश्वरफोटो-

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:JEE Nearly half the candidates left the paper at three centers in Haldwani