ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंड हल्द्वानीमैंने रटना लगाई रे, राधा तेरे नाम की....

मैंने रटना लगाई रे, राधा तेरे नाम की....

हरि शरणम् जन संस्था की ओर से आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का रविवार से शुभारंभ हो गया। एमबी इंटर कॉलेज के मैदान में पूजा-अर्चना कर विधिविधान से कथा शुरू...

हरि शरणम् जन संस्था की ओर से आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का रविवार से शुभारंभ हो गया। एमबी इंटर कॉलेज के मैदान में पूजा-अर्चना कर विधिविधान से कथा शुरू...
1/ 4हरि शरणम् जन संस्था की ओर से आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का रविवार से शुभारंभ हो गया। एमबी इंटर कॉलेज के मैदान में पूजा-अर्चना कर विधिविधान से कथा शुरू...
हरि शरणम् जन संस्था की ओर से आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का रविवार से शुभारंभ हो गया। एमबी इंटर कॉलेज के मैदान में पूजा-अर्चना कर विधिविधान से कथा शुरू...
2/ 4हरि शरणम् जन संस्था की ओर से आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का रविवार से शुभारंभ हो गया। एमबी इंटर कॉलेज के मैदान में पूजा-अर्चना कर विधिविधान से कथा शुरू...
हरि शरणम् जन संस्था की ओर से आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का रविवार से शुभारंभ हो गया। एमबी इंटर कॉलेज के मैदान में पूजा-अर्चना कर विधिविधान से कथा शुरू...
3/ 4हरि शरणम् जन संस्था की ओर से आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का रविवार से शुभारंभ हो गया। एमबी इंटर कॉलेज के मैदान में पूजा-अर्चना कर विधिविधान से कथा शुरू...
हरि शरणम् जन संस्था की ओर से आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का रविवार से शुभारंभ हो गया। एमबी इंटर कॉलेज के मैदान में पूजा-अर्चना कर विधिविधान से कथा शुरू...
4/ 4हरि शरणम् जन संस्था की ओर से आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का रविवार से शुभारंभ हो गया। एमबी इंटर कॉलेज के मैदान में पूजा-अर्चना कर विधिविधान से कथा शुरू...
हिन्दुस्तान टीम,हल्द्वानीSun, 13 Nov 2022 07:40 PM
ऐप पर पढ़ें

हल्द्वानी, संवाददाता

हरि शरणम् जन संस्था की ओर से आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का रविवार से शुभारंभ हो गया। एमबी इंटर कॉलेज के मैदान में पूजा-अर्चना कर विधिविधान से कथा शुरू हुई।

कथा वाचक मृदुल कृष्ण गोस्वामी ने पहले दिन राजा परीक्षित की कथा सुनाई। बताया कि शुकदेवजी ने परीक्षित को सात दिन भागवत-कथा सुनाई थी। माना जात है कि तभी से भागवत सप्ताह की परंपरा प्रारंभ हुई। उन्होंने कहा कि भागवत सुनने वालों को सात दिन तक अपना पूरा ध्यान ईश्वर-चिंतन में लगाना चाहिए ताकि मोक्ष मिल सके। कथा-सत्संग सुनने से ही स्वर्ग के रास्ते खुल जाते हैं। उन्होंने अपनी मधुर आवाज में भजन भी सुनाए। जिन्हें सुनकर भक्त नाचने लगे।

कथा स्थल पर भजन संध्या का आयोजन किया गया। जिसमें मुझे चरणों से लगा ले, मेरे श्याम मुरली वाले..., छोटी छोटी गइया, छोटे छोटे ग्वाल....मैंने रटना लगाई रे, राधा तेरे नाम की....आदि भजन सुनाए गए। शाम को महाआरती के बाद प्रसाद वितरण किया गया। इस दौरान विधायक बंशीधर भगत, प्रो. अनिल कपूर डब्बू, संस्था प्रमुख स्वामी रामगोविंद दास समेत बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।