ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंड हल्द्वानीगुलदार का आतंक नहीं हो रहा खत्म,पांच दिन के अंदर तीन की दर्दनाक मौत

गुलदार का आतंक नहीं हो रहा खत्म,पांच दिन के अंदर तीन की दर्दनाक मौत

कुमाऊं में मानव वन्यजीव संघर्ष चरम पर है। पांच दिन के भीतर गुलदार तीन लोगों की जान ले चुका है। मारे गए लोगों में दो महिलाएं व एक पुरुष शामिल हैं। तीनों ही जंगल में चारा लेने लिए गए थे। घटना के बाद...

गुलदार का आतंक नहीं हो रहा खत्म,पांच दिन के अंदर तीन की दर्दनाक मौत
Himanshu Kumar Lallकार्यालय संवाददाता, हल्द्वानीTue, 18 Jan 2022 03:41 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

कुमाऊं में मानव वन्यजीव संघर्ष चरम पर है। पांच दिन के भीतर गुलदार तीन लोगों की जान ले चुका है। मारे गए लोगों में दो महिलाएं व एक पुरुष शामिल हैं। तीनों ही जंगल में चारा लेने लिए गए थे। घटना के बाद ग्रामीणों में आक्रोश है। ग्रामीणों ने गुलदार को पकड़ने की मांग की है। उन्होंने जल्द कार्रवाई न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी है।

दमुवाढूंगा की नंदी सनवाल (44) 13 जनवरी को चारा लेने काठगोदाम से लगे जंगल गई थी। गुलदार ने नंदी पर हमला कर उसे घसीट कर जंगल के भीतर ले गया। इसके बाद काफी मुश्किल से उनका शव मिल पाया। वहीं मूलरूप से झूलाघाट पिथौरागढ़ हाल निवासी नानकमत्ता ध्यानपुर की आरती चन्द्र (28) पत्नी राम चन्द्र 15 जनवरी की शाम पास के रनसाली रेंज के जंगल में जानवरों के लिए चारा लेने गई थी।

इस बीच गुलदार ने उन्हें भी अपना निवाला बना दिया। वहीं 17 जनवरी की दोपहर को कठघरिया जंगल जानवरों के लिए चारा लेने गए बजूनियाहल्दू कठघरिया निवासी नत्थू लाल (48 ) पुत्र धाकन सिंह को गुलदार ने अपना निवाला बना दिया। इस दौरान नत्थू लाल का क्षत-विक्षत शव जंगल से बरामद किया है।  

गुलदार का हमला
13 जनवरी-  चकलुवा निहाल में गुलदार ने एक महिला व एक पुरुष पर हमला कर घायल कर दिया।
12 दिसंबर- दमुवाढूंगा की लीला लटवाल पर गुलदार ने हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया।
29 दिसंबर-  दमुवाढूंगा मित्र पुरम निवासी मुकेश (32) पर गुलदार ने हमला कर उसकी जान ले ली।

विभाग के रवैये से रोष
पूर्व जिला पंचायत सदस्य नीरज तिवारी ने कहा वन विभाग जल्द गुलदार को मारने या पकड़ने के आदेश  देता तो नत्थू लाल गुलदार का शिकार नहीं होता। वहीं दो दिन पूर्व गुलदार एक महिला को भी अपना निवाला बना चुका है। इसके बावजूद भी वन विभाग के कान में जूं तक नहीं रेंग रहा। उन्होंने जल्द गुलदार को पकड़ने या मारने के आदेश देने की मांग की।  

फतेहपुर रेंज में गुलदार लगातार हमलावर हो रहा है। इसे देखते हुए मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक से गुलदार को पकड़ने-मारने को लेकर अनुमति मांगी है। गुलदार को चिह्नित करने के लिए करीब 12 से ज्यादा कैमरे दोनों घटना स्थल पर लगाए हैं। 
सीएस जोशी, डीएफओ रामनगर वन प्रभाग

epaper