Government to set up railway lines from Bansheshwar instead of Peshaweswar dam - वीडियो : पंश्वेश्वर बांध के बजाय बागेश्वर तक रेल लाइन बनाए सरकार DA Image
10 दिसंबर, 2019|8:22|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वीडियो : पंश्वेश्वर बांध के बजाय बागेश्वर तक रेल लाइन बनाए सरकार

वीडियो : पंश्वेश्वर बांध के बजाय बागेश्वर तक रेल लाइन बनाए सरकार

बागेश्वर में रविवार को रेल मार्ग निर्माण संघर्ष समिति ने तहसील परिसर में टनकपुर-बागेश्वर रेल लाइन की मांग पर प्रदर्शन किया। उन्होंने अंग्रेजी शासन काल से स्वीकृत रेल मार्ग का निर्माण कराने की बजाय पंचेश्वर बांध बनाने का विरोध किया। उन्होंने कहा कि बांध से 32 हजार लोग प्रभावित हो रहे हैं। उन्होंने जल्द रेल लाइन के लिए बजट आवंटन करने की गुहार लगाई। मांग पूरी नहीं होने पर उग्र आंदोलन करने की चेतावनी दी।

रेल मार्ग निर्माण संघर्ष समिति के पदाधिकारी और सदस्य तहसील में एकत्र हुआ। उन्होंने कहा कि सरकार सामरिक महत्व की रेल लाइन को अनदेखा कर रही है। देवभूमि की पवित्र नदियों को बांधा जार रहा है। उन्होंने कहा कि बांध बना तो चंपावत, पिथौरागढ़, अल्मोड़ा और बागेश्वर जिले के करीब 32 हजार लोगों का जीवन प्रभावित होगा। किसान, व्यापारी, कारोबारी आदि पर बेरोजगारी का संकट होगा। लोगों को अपने घर और पैतृक जमीन छोड़नी पड़ेगी। उन्होंने कहा कि अगर सरकार रेल लाइन का निर्माण करे तो क्षेत्र में पर्यटन और रोजगार बढ़ेगा। पलायन को रोकने में मदद मिलेगी। सुरक्षा की दृष्टि से भी मजबूती मिलेगी। उन्होंने कहा कि समिति सालों से आंदोलन कर सरकार से गुहार लगाकर थक चुकी है। अब आर-पार की लड़ाई का समय आ गया है। पदाधिकारियों ने सभी कार्यकर्ताओं और आम नागिरकों से आंदोलन को उग्र करने में सहयोग देने को कहा। उन्होंने कहा कि सभी के सहयोग से सरकार पर दबाव बनाया जाएगा। इस मौके पर उपाध्यक्ष केवल सिंह डियोड़ी, खड़क राम आर्या, चंद्र शेखर मिश्रा, गिरीश चंद्र पाठक, नर सिंह, लक्ष्मी धर्मशक्तू, लक्ष्मण सिंह कनवाल, रतन सिंह शाही, हेमा जोशी, खिमुली देवी, विशन सिंह नेगी, गोपाल राम, राजेंद्र सिंह, खीम सिंह मेहता आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Government to set up railway lines from Bansheshwar instead of Peshaweswar dam