DA Image
Sunday, December 5, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंड हल्द्वानीफर्जी दस्तावेज बना चोरी के ट्रक बेचने का खुलासा

फर्जी दस्तावेज बना चोरी के ट्रक बेचने का खुलासा

हिन्दुस्तान टीम,हल्द्वानीNewswrap
Sun, 14 Nov 2021 08:01 PM
फर्जी दस्तावेज बना चोरी के ट्रक बेचने का खुलासा

लालकुआं। संवाददाता

कोतवाली पुलिस ने चोरी के ट्रकों को इंजन और चैसिस नंबर बदलकर फर्जी दस्तावेज के माध्यम से बेचने वाले अंतरराज्यीय गिरोह का खुलासा किया है। पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर दो ट्रक भी जब्त किए हैं। गिरोह के मास्टर माइंड समेत तीन आरोपी फरार हैं। उनकी तलाश के लिए टीमें गठित कर दबिश दी जा रही है। पुलिस का दावा है कि चोरी के ट्रकों को अरुणाचल प्रदेश से एनओसी जारी कराकर हल्द्वानी स्थित परिवहन विभाग कार्यालय में रजिस्टर्ड कराया जाता था।

रविवार को लालकुआं कोतवाली में मामले का खुलासा करते हुए एसपी सिटी डॉ. जगदीश चंद्र ने बताया कि इस मामले में गत 6 अक्तूबर को लालकुआं निवासी सुधीर कुमार ने मुकदमा दर्ज कराया था। सुधीर ने बताया था कि उन्होंने हल्द्वानी निवासी परवेज खान से एक ट्रक खरीदा था। बाद में पता चला कि चोरी के ट्रक को खरीदने के बाद उसके फर्जी दस्तावेज बनाकर उन्हें बेचा गया है। उन्होंने धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की थी।

मामले की जांच करते हुए कोतवाली पुलिस ने परवेज खान से पूछताछ की तो पता चला कि उसे इम्तियाज उर्फ छोटा निवासी वार्ड नंबर-5 इस्लामनगर उधमसिंह नगर ने ट्रक दिया था। इम्तियाज को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो पूरे मामले का कड़ी दर कड़ी खुलासा होता चला गया।

एसपी सिटी ने बताया कि गुड्डू वारसी उर्फ नवाब वारसी निवासी वार्ड नंबर-5 इस्लाम नगर कोतवाली सितारगंज इस षड्यंत्र का मास्टरमाइंड है। वह चोरी के ट्रकों को बहुत ही कम दामों में खरीदकर अरुणाचल प्रदेश से एनओसी जारी कराकर हल्द्वानी परिवहन विभाग कार्यालय में वाहनों को पंजीकृत करा लेता है। उसके बाद चोरी के ट्रक को महंगे दामों पर बेचता है। इस प्रकार के दो 14 टायरा ट्रक जब्त किए हैं।

फरार आरोपियों गुड्डू वारसी व दानिश निवासी मुडलिया, घोसू, थाना अमरिया जिला पीलीभीत, यूपी व नरुल निवासी अमरिया, जिला पीलीभीत, हाल निवासी वार्ड नंबर-1 रजा मैरिज हॉल के पास कस्बा सितारगंज, उधमसिंह नगर की तलाश में कई टीमें लगाई गई हैं। इस दौरान एएसपी सर्वेश पवार, कोतवाल संजय कुमार, एसएसआई हरीश पूरी आदि मौजूद रहे। मामले का खुलासा करने वाली टीम में उपनिरीक्षक कृपाल सिंह, कांस्टेबल तरुण मेहता और अनिल शर्मा शामिल रहे।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें