DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हीरानगर के वीआईपी कब्जेदारों से घबराया जिला प्रशासन

हीरानगर के वीआईपी कब्जेदारों से घबराया जिला प्रशासन

शहर की पॉश कालोनी हीरानगर के वीआईपी ‘कब्जेदारों के सामने जिला प्रशासन घबराया गया है। हीरानगर की मुख्य सड़क सरकारी नपाई में 60 फीट चौड़ी निकलने के चार दिन बाद भी जिला प्रशासन एक भी अतिक्रमणकारी को नोटिस तक नहीं जारी कर सका है। इतना ही नहीं जिन दो निर्माणों को प्रशासन रुकवाकर आया था, उनमें धड़ल्ले से निर्माण शुरू हो गया है। आपके प्रिय समाचार पत्र हिन्दुस्तान ने जब इस बाबत जिला प्राधिकरण अधिकारियों से इस बाबत पूछा तो उन्होंने कार्रवाई की जिम्मेदारी नगर निगम पर टालकर पल्ला झाड़ लिया।

हीरानगर में जेल रोड से जो बाईपास पर्वतीय सांस्कृतिक उत्थान मंच के किनारे-किनारे होते हुए आईटीआई रोड तक जाता है उसमें 26 लोगों ने सड़क की कम से कम 15 फीट जमीन पर कब्जा कर अपने लान विकसित कर लिए हैं और लान के किनारे एक और बाउंड्रीवाल खड़ी कर ली है। ‘हिन्दुस्तान में मामला प्रमुखता से प्रकाशित होने के बाद हल्द्वानी बीती 22 को क्षेत्रीय विकास प्राधिकरण के अफसरों ने मौके पर जाकर एक बाउंड्रीवाल का निर्माण रुकवाया दिया। 23 फरवरी को प्राधिकरण के संयुक्त सचिव पंकज उपाध्याय, राजस्व विभाग के भगवान सिंह चौहान, प्राधिकरण के जेई मनोज अधिकारी अभिलेखों के साथ मौके पर पहुंचे थे और मौके की पैमाइश की। सड़क की चौड़ाई का जब अभिलेखों से मिलान किया गया तो यह 60 फीट की निकली। पहले प्राधिकरण सड़क की चौड़ाई 40 फीट मानकर चल रहा था। जेई अधिकारी ने संयुक्त सचिव के निर्देश पर सभी 26 अतिक्रमणकारियों के नाम-पते नोट किए और इन्हें अतिक्रमणकारी मानते हुए इनके नोटिस तैयार किए। नोटिस में इन सभी को 15 दिन के भीतर अपना लिखित स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने के लिए कहा गया है। पर पर इस पर अग्रिम आदेश के लिए फिलहाल प्राधिकरण के संयुक्त सचिव ने दस्तखत ही नहीं किए हैं।

हीरानगर में कई भवन स्वामियों की लीज खत्म!

राजस्व अभिलेखों में हीरानगर की पूरी जमीन शीशमबाग-हीरानगर खाम भूमि के रूप में दर्ज है। राजस्व विभाग के अनुसार यह भूमि 90 साल के लिए लीज पर लोगों को खाम पट्टे देकर अलॉट की गई थी। नियमानुसार हर 30 साल बाद भूमि का नवीनीकरण करवाना होता है। राजस्व विभाग के अनुसार इस जमीन पर मकानों का निर्माण करके बैठे कई लोगों ने जमीन का नवीनीकरण नहीं कराया है, जो गैरकानूनी है। अभिलेखों में यह आफिशियल हाउसिंग को-आपरेटिव सोसायटी के रूप में दर्ज है। राजस्व विभाग का कहना है कि जब उन्होंने पिछले दिनों राजस्व के नक्शों से इस सड़क का मिलान किया तो सड़क की चौड़ाई 60 फीट निकली।

ट्रैफिक दबाव कम करने को 60 फीट करनी होगी रोड

हल्द्वानी में ट्रैफिक दबाव लगातार बढ़ रहा है। छात्रसंघ चुनाव, बड़े जुलूस या वीआईपी मूवमेंट बढ़ने पर अक्सर पुलिस प्रशासन कालाढूंगी रोड और रामपुर रोड का ट्रैफिक वाया हीरानगर डायवर्ट करता है, लेकिन लगातार बढ़ते कब्जों से यहां भी जाम लगने लगा है। जिला प्रशासन के सूत्रों के अनुसार ट्रैफिक दबाव बढ़ने पर जिस तरह से नैनीताल रोड के अतिक्रमण को ध्वस्त कर चौड़ा किया गया था। जल्द हीरानगर में सड़क चौड़ीकरण की कार्रवाई शुरू की जायेगी। हिन्दुस्तान में मामला प्रकाशित होने के बाद अंदरखाने विकास प्राधिकरण ने नगर निगम से सड़क चौड़ीकरण का प्रस्ताव बनाने को कह दिया है, ताकि विधिवत रूप से अतिक्रमण को ध्वस्त किया जा सके।

प्राधिकरण के संयुक्त सचिव बोले, निगम की मांगेंगे मदद

विकास प्राधिकरण के संयुक्त सचिव पंकज उपाध्याय हीरानगर में फिलहाल दो निर्माणाणीन कार्य रुकवा दिये गये हैं, उन्हें नोटिस भेजकर जवाब मांगा है। पंकज ने बताया कि नई व्यवस्था में शहरों के आंतरिक मार्ग लोकनिर्माण विभाग की जगह नगर निगम के दायरे में आ चुके हैं। हीरानगर मार्ग शहर में बढ़ते ट्रैफिक दबाव को कम करने का अच्छा विकल्प बन सकता है। जल्द निगम के साथ हीरानगर सड़क के चौड़ीकरण का प्रस्ताव बनाकर मुख्य मार्ग के अतिक्रमण को ध्वस्त किया जायेगा। इस संबंध में निगम के अधिकारियों को पत्र लिखा जा रहा है।

डीएम बोले, प्राधिकरण से बात कर अंतिम निर्णय लेंगे

नैनीताल जिला विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष दीपेन्द्र कुमार चौधरी का कहना है कि आज से पहले हीरानगर के मामले में सड़क पर अतिक्रमण कर मकानों का निर्माण करने का मुद्दा प्रकाश में नहीं आया। अब यह पता चला है कि सड़क की जमीन पर अतिक्रमण कर 26 लोगों ने अतिक्रमण कर कोठियां खड़ी की गई हैं। इस संबंध में प्राधिकरण के संयुक्त सचिव पंकज उपाध्याय से बातचीत कर कोई अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

रकसिया नाले के पांच अतिक्रमणकारियों का काम रुकवाया

हल्द्वानी क्षेत्रीय विकास प्राधिकरण के जेई मनोज अधिकारी, राजस्व निरीक्षक मनोज जोशी ने मंगलवार दोपहर मौके पर जाकर अतिक्रमण चिह्नित कर पांचों अतिक्रमणकारियों का निर्माण कार्य रोक दिया है। प्राधिकरण इन्हें बाकायदा नोटिस भेजकर लिखित स्पष्टीकरण मांगेगा। विदित हो कि हीरानगर क्षेत्र में सड़क की जमीन पर अतिक्रमण कर लान विकसित करने वाले 26 अतिक्रमणकारियों और रकसिया नाले पर अतिक्रमण कर दो मंजिले मकान का निर्माण करने वाले अतिक्रमण कारियों सहित पांच अतिक्रमणकारियों के खिलाफ हिन्दुस्तान ने प्रमुखता से खबरें प्रकाशित कीं। इसका संज्ञान लेकर प्राधिकरण की टीम मौके पर पहुंची।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:District administration fears encroachment of VIP in Hira Nagar