DA Image
3 अगस्त, 2020|11:47|IST

अगली स्टोरी

निगम के भ्रष्टाचार के खिलाफ कांग्रेसियों का आंदोलन तेज

default image

नगर निगम में भ्रष्टाचार की जांच की मांग को लेकर कांग्रेसियों ने लगातार पांचवें दिन भी धरना जारी रखा। बुद्ध पार्क में धरना देते हुए कांग्रेसियों ने कहा कि यदि मामले की जल्द जांच शुरू नहीं की गई तो वे निगम दफ्तर के बाहर धरना देने को मजबूर होंगे। इस दौरान उन्होंने सिटी मजिस्ट्रेट के माध्यम से जिलाधिकारी को भेजे ज्ञापन में भ्रष्टाचार की जल्द जांच कराने की मांग की।

धरनास्थल पर हुई सभा में मंडी समिति के पूर्व अध्यक्ष सुमित हृदयेश ने कहा कि कोरोना काल के दौरान नगर निगम ने मनमाने ढंग से लाखों रुपये का भ्रष्टाचार किया है। शहर में सेनेटाइजेशन के नाम पर 70 लाख रुपये केमिकल पर खर्च किए गए हैं। शहर के प्रमुख प्रतिष्ठानों में सोशल डिस्टेंसिंग के लिए गोले बनाए बगैर एक लाख छह हजार रुपये उसमें खर्च दिखाए गए हैं। नगर निगम की दुकानों के नामांतरण के नाम पर करोड़ों रुपये के स्टांप की चोरी की गई है, जिससे सरकार को राजस्व का बड़ा नुकसान हुआ है। प्रदर्शनकारियों ने चेतावनी दी कि यदि नगर निगम के इन भ्रष्टाचार की जल्द जांच शुरू नहीं की गई तो वे आंदोलन को और तेज करने को मजबूर होंगे। आवश्यकता पढ़ने पर नगर निगम दफ्तर में तालाबंदी की जाएगी। महानगर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल छिमवाल ने कहा कि जब तक मामलों की जांच शुरू नहीं हो जाती, तब तक धरना जारी रहेगा। इस दौरान आंदोलनकारियों ने सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह के माध्यम से जिलाधिकारी को ज्ञापन भेजा। ज्ञापन में नगर निगम में हुए भ्रष्टाचार का उल्लेख करते हुए उसकी जांच की मांग की गई। इस मौके पर कांग्रेस नेता हेमंत बगड़वाल, हरेन्द्र बोरा, सुमित हृदयेश, नगर निगम पार्षद नरेन्द्र जीत सिंह रोहड़ू, विधायक प्रतिनिधि जीवन कार्की, कुमुद बृजवासी, संजय साह, राजेन्द्र सिंह जीना, राकेश बृजवासी, तोफिक अहमद, संजय रावत मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Congressmen agitate against corruption of corporation