DA Image
27 फरवरी, 2020|1:09|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीएए के विरोध में उतरा उत्तराखंड क्रांति दल

default image

देश नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर उत्तराखंड क्रांति दल ने भाजपा को आड़े हाथ लिया है। उक्रांद का मानना है कि देश में घटते जनाधार को लेकर भाजपा सरकार ने सीएए को देश में लागू किया। उत्तराखंड में भी सीएए के कारण नकरात्मक परिणाम सामने आएंगे।

कहचरी रोड स्थित दल के कार्यालय में उक्रांद के संरक्षक त्रिवेंद्र पंवार ने कहा कि सीएए जैसा कानून लाना भाजपा सरकार की बौखलाहट है। भाजपा का जनाधार कम हो रहा है तो इस तरह के कानून देश में थोपें जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य गठन के बाद से ही केंद्र सरकारों ने उत्तराखंड को एक उपनिवेश की तरह इस्तेमाल किया है। यहां पर पलायन, शिक्षा तथा स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं सुलझाने के बजाय शराब, खनन व भूसंपदा की लूट मचा कर राज्य को खोखला करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि राज्य वासियों को नोटबंदी और जीएसटी जैसी फेल योजनाओं को याद रखना चाहिए,जिसकी वजह से देश में अराजकता व अनिश्चितता का माहौल बना था और नागरिकों की क्षति हुई थी। जहां नोटबंदी के बाद भी आतंकवाद की कमर टूटने के बजाय पुलवामा जैसे हमले देश को झेलने पड़े थे वही जीएसटी में भी अभी तक केंद्र सरकार अपने उद्देश्य में सफल नहीं हो पाई है। देश की अर्थव्यवस्था दिन भर दिन गिरती जा रही है। केंद्र सरकार आर्थिक सिस्टम को ठीक करने की बजाए सीएए जैसे कानून लागू कर रही है। उन्होंने कहा कि देश को इस कदम से फायदा के बजाय नुकसान होने का अंदेशा ज्यादा है। इसलिए उत्तराखंड क्रांति दल सीएए के विरोध में रहेगा। पत्रकार वार्ता में बीडी रतूड़ी भी मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Uttarakhand Kranti Dal landed in opposition to CAA