अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

त्रिवेंद्र सरकार को फिर झटका, हाईकोर्ट ने नगर पालिकाओं में आरक्षण रद्द किया

हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को प्रदेश की नगर पालिकाओं में नए सिरे से आरक्षण तय करने के आदेश दिए हैं। इसमें बाजपुर और श्रीनगर नगर पालिका परिषद को भी शामिल करने के लिए कहा है। अदालत ने सरकार के 28 अप्रैल को आरक्षण को लेकर जारी अधिसूचना निरस्त के बाद ये निर्देश दिए हैं। न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया की एकलपीठ ने मामले की सुनवाई की। सरकार ने दो पालिकाओं को छोड़कर बाकी 39 में आरक्षण पर अधिसूचना जारी कर दी थी।

बाजपुर (ऊधमसिंह नगर) निवासी मुश्ताक अहमद ने मामले में हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। इसमें कहा गया था कि सरकार ने जान-बूझकर बाजपुर और श्रीनगर नगर पालिका को अलग रखकर आरक्षण घोषित कर दिया है, जो न्यायसंगत नहीं है। सुनवाई के दौरान इस मामले में सरकार की ओर से कोई संतोषजनक जवाब पेश नहीं किया गया। इस पर कोर्ट ने मांग को जायज बताते हुए यह आदेश दिए। इसमें नगर पालिकाओं को लेकर 28 अप्रैल 2018 को जारी अधिसूचना निरस्त कर दी गई है। इसके साथ सरकार को श्रीनगर और बाजपुर नगर पालिकाओं को शामिल कर नए सिरे से अध्यक्ष पद का आरक्षण तय करने के आदेश दिए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Uttarakhand High Court canceled reservation in municipality