DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तराखंड : NH-74 घोटाला उजागर करने वाले कुमाऊं कमिश्नर का तबादला 

उत्तराखंड में कुमाऊं कमिश्नर डी. सेंथिल पांडियन का तबादला कर दिया गया है। पांडियन 300 करोड़ के एनएच मुआवजा घोटाले को लेकर चर्चित रहे हैं। उनसे चिकित्सा शिक्षा हटाकर प्रभारी सचिव परिवहन और परिवहन आयुक्त बनाया है। उनकी जगह चंद्रशेखर भट्ट से सभी पद हटाते हुए कुमाऊं कमिश्नर बनाया गया है। यूएसनगर में तैनात रहे डॉ. पंकज पांडे को चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, महानिदेशक सूचना दिया है। 

एनएच घोटाले को दबा रही सरकार : इंदिरा
नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश ने कुमाऊं कमिश्नर डी. सेंथिल पांडियन के तबादले को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है। उनका आरोप है एनएच-74 मुआवजा घोटाले की जांच को दबाने के मकसद से प्रदेश सरकार ने तबादला किया है। डॉ. हृदयेश ने यह मसला विधानसभा सत्र में उठाने की बात कही है। गुरुवार को कुमाऊं आयुक्त के तबादले के बाद नेता प्रतिपक्ष ने बयान जारी कर कहा कि पांडियन ने एनएच-74 के लिए भूमि अधिग्रहण प्रक्रिया में घोटाले का खुलासा किया था। यह बड़ा घोटाला है, लेकिन राज्य और केंद्र सरकार इसे दबाने में जुटी हैं। उन्होंने कहा कि पहले केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने सीबीआई की जांच को मंजूरी नहीं  देने दी और अब प्रदेश सरकार ने उसी ईमानदार अफसर को हटा दिया, जो निष्पक्षता से जांच कर रहा है। केंद्र के अटॉर्नी जनरल का खुद हाईकोर्ट आकर अफसरों की पैरवी करना केंद्र-राज्य की साजिश को खोलता है। डॉ. इंदिरा ने कहा कि कांग्रेस मामले में चुप नहीं बैठेगी। वह खुद इसे सदन में उठाएंगी और आंदोलन करेंगी। इसके अलावा उन्होंने प्रदेशभर में कांग्रेस की ओर से आंदोलन करने की भी बात कही है।

तीस आईएएस अफसरों का तबादला

सरकार ने 20 दिन के भीतर ही ब्यूरोक्रेसी में दूसरा बड़ा फेरबदल कर गुरुवार को 30 आईएसएस अफसरों के विभाग बदल दिए तो कुछ की जिम्मेदारियां और बढ़ा दीं। अपर मुख्य सचिव डॉ. रणवीर सिंह और मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव ओमप्रकाश का कद कुछ और बढ़ाया है।   
गुरुवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की मंजूरी पर कार्मिक विभाग ने सूची जारी की। इससे पहले 15 मई को अफसर बदले गए थे। मुख्यमंत्री के सचिव अमित सिंह नेगी से कर आयुक्त पद हटाते हुए आवास विभाग का जिम्मा दिया है। अपर सचिव डॉ. वी.षणमुगम से वन पर्यावरण व एमडीडीए के उपाध्याक्ष पद हटाकर अपर सचिव लोक निर्माण बनाया है। एमडीडीए उपाध्यक्ष पद का जिम्मा विनय शंकर पांडे को मिला है। अपर सचिव श्रीधर बाबू अद्यांकी से कृषि हटाकर उन्हें आयुक्त कर-निदेशक-ऑडिट बनाया गया है। 

इन अफसरों का बढ़ा कद 

अपर मुख्य सचिव डॉ. रणवीर सिंह को आबकारी, अपर मुख्य सचिव ओमप्रकाश को चिकित्सा शिक्षा, सचिव आर. मिनाक्षी सुंदरम को तीर्थाटन प्रबंधन-धार्मिक मेला, प्रभारी सचिव हरबंस चुग को श्रम और सेवायोजन, उषा शुक्ला को समाज कल्याण, अपर सचिव डॉ. पंकज पांडेय को चिकित्सा स्वास्थ्य-परिवार कल्याण व महानिदेशक-सूचना मिला। अपर सचिव डॉ. रंजीत सिन्हा को सचिव-मानवाधिकार आयोग, भूपाल सिंह मनराल को कार्मिक वन पर्यावरण, सीईओ-पीएमजीएसवाई, अपर सचिव विनोद सुमन को शहरी विकास, ज्योति नीरज खैरवाल को अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी, अपर सचिव रणवीर सिंह को ऊर्जा, निदेशक-वैकल्पिक ऊर्जा, कैप्टन आलोक शेखर तिवारी को अपर सचिव-अल्पसंख्यक कल्याण, अपर सचिव अरुणेंद्र चौहान को आईटी, सुराज, भ्रष्टाचार उन्मूलन-जनसेवा, प्रदीप सिंह रावत को लोक निर्माण विभाग अतिरिक्त विभाग दिया है। छिने विभाग: प्रमुख सचिव मनीषा पंवार से श्रम-सेवायोजन, डॉ. उमाकांत पंवार से  खेल, परिवहन-आयुक्त परिवहन, अरविंद सिंह ह्यांकी से सीईओ-पीएमजीएसवाई, चंद्र सिंह नपलच्याल से समाज कल्याण और आबकारी विभाग, मनेाज चंद्रन से वन एवं पर्यावरण, अतुल कुमार गुप्ता से पुनर्गठन हटाया गया है।

बाध्य प्रतीक्षा से राहत 

चंद्रेश कुमार यादव को अपर सचिव ग्राम विकास, एपीडी, एडी-यूएसएएटीए, इंदुधर बौड़ाई को सचिवालय प्रशासन, सामान्य प्रशासन, पुनर्गठन विभाग में अपर सचिव, सुनील श्री पांथरी अपर सचिव आवास-कार्मिक, सुभाष चंद्र को निदेशक-सचिवालय प्रशिक्षण संस्थान बनाया गया है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Uttarakhand Gov changed 30 IAS officers