class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गरीबों के हिस्से का सस्ता राशन बाजार में बेचते पकड़े गए दो डीलर, मुकदमा

कोटे के चावल की कालाबाजारी के मामले में दो कोटेदारों के खिलाफ आवश्यक वस्तु अधिनियम में मुकदमा दर्ज किया गया है। पूर्ति विभाग की ओर से दर्ज मुकदमे में पुलिस जांच कर रही है। 

पूर्ति निरीक्षक हिमांशु रावत की ओर से गंगनहर कोतवाली में तहरीर देकर बताया गया कि तेरह नवंबर को ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नितिका खंडेलवाल को सूचना मिली कि सरकारी कोटे का चावल खुले बाजार में बेचा जा रहा है। सूचना पर प्रशासन और पूर्ति विभाग की टीम ने छापा मारकर नवीन मंडी से दो टैंपो पकड़े। जांच में पता चला कि एक टैंपो माहीग्रान में नौशाद की दुकान और दूसरी आदर्श नगर में सुधीर की दुकान से निकला था।

फंडिंग पैटर्न बदलने से उत्तराखण्ड‍ को बजट में बड़ा घाटा

जांच के लिए टीम मौके पर पहुंची तो कोटे की दोनों दुकान बंद मिली। मंगलवार को प्रशासन की मौजूदगी में दुकान को खोला गया। दुकानों के स्टॉक रजिस्टर की जांच की गयी। जिसमें स्टॉक कम पाया गया। इंस्पेक्टर गंगनहर कमल कुमार लुंठी ने बताया कि राशन डीलर नौशाद और सुधीर के खिलाफ आवश्यक वस्तु अधिनियम में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मामले की जांच की जा रही है। इंस्पेक्टर ने बताया कि राशन को कब्जे में लिया गया है। जिन वाहनों में राशन की कालाबाजारी है उनके अज्ञात चालकों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया है। 

50 हजार वेतन लेने वाली टीचर ने स्कूल में मजदूरी पर रखा था पढ़ाने वाला और फिर...

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Two dealers seized for selling cheap ration in poor market
50 हजार वेतन लेने वाली टीचर ने स्कूल में मजदूरी पर रखा था पढ़ाने वाला और फिर...पलायन रोकने के लिए कारगर हो सकती है हंस फाउंडेशन की ये योजना