DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सहायक अध्यापक पद पर समायोजन की मांग पर आश्वासन मिलने के बाद शिक्षा मित्रों ने आमरण अनशन खत्म किया लेकिन धरना जारी

सहायक अध्यापक पद पर समायोजन की मांग पर आश्वासन मिलने के बाद शिक्षा मित्रों ने आमरण अनशन खत्म कर दिया। शिक्षा निदेशक आरके कुंवर ने शिक्षा मित्रों की मांग को शासन के समक्ष प्रभावी ढंग से रखने का भरोसा दिया है। कुंवर ने सोमवार शाम शिक्षा मित्र क्रांतिकारी महासंघ के अध्यक्ष पूरण सिंह राणा, सुनीता रावत और अनीता कपसुड़ी को जूस पिलाकर हड़ताल खत्म कराई। पूरण 15 दिन से भूख हड़ताल पर थे।  देर शाम तबीयत बिगड़ने पर देरशाम उन्हें कोरोनेशन अस्पताल में भर्ती कराया गया। महासंघ प्रवक्ता चित्रा राणा ने बताया कि हड़ताल खत्म कर दी है पर जीओ जारी होने तक धरना जारी रहेगा। इससे पूर्व शिक्षा मित्रों ने निदेशक के घेराव का ऐलान किया था। सोमवार सुबह महासंघ अध्यक्ष निदेशालय के पोर्च में जाकर लेट गए। शिक्षा मित्रों ने भी उनके ईदगिर्द डेरा डाल दिया। शिक्षा मित्रों के तेवर देखते शिक्षा निदेशक दोपहर तक दफ्तर नहीं आए। दोपहर करीब दो बजे कुंवर निदेशालय पहुंचे। मुख्य द्वार के पास शिक्षा मित्रों को डटा देख वे पिछले दरवाजे से आफिस आ पाए। दोपहर बाद कुंवर ने शिक्षा मित्रों के प्रतिनिधिमंडल को वार्ता के लिए बुलाया। शिक्षा मित्रों ने कहा कि पूर्व में विभाग ने औपबंधिक आधार पर 1500 शिक्षा मित्रों को सहायक अध्यापक पद पर रखा है। शेष शिक्षा मित्रों को भी उसी प्रकार नियुक्त किया जा सकता है। निदेशक ने कहा कि केंद्र सरकार के स्पष्ट नियम हैं कि अप्रशिक्षित व्यक्ति को शिक्षक नहीं बनाया जा सकता। डीएलएड के साथ टीईटी अनिवार्य है। बहरहाल, शासन को प्रस्ताव भेजा जा रहा है। इस पर शिक्षा मित्रों ने भूख हड़ताल खत्म करने का निर्णय लिया। धरने में जसवंती सेमवाल, पुष्पलता,हरि नेगी,भगवान सिंह, ऊषा कोठियाल, शीला, मातबर, सुरेश, महावीर, मोहन आदि शामिल रहे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:shiksha mitra end hunger strike continue with protest