DA Image
27 सितम्बर, 2020|9:21|IST

अगली स्टोरी

लूट का विरोध करने पर बदमाशों ने पौड़ी के फौजी का हाथ काटा

रेलवे स्टेशन पर शनिवार देर रात लूट के विरोध पर बदमाशों ने गंड़ासा मारकर फौजी का हाथ काट दिया। बदमाशों ने लूटपाट के बाद उनको ट्रैक पर फेंक दिया। लोगों ने फौजी को जिला अस्पताल में भर्ती कराया जहां से गंभीर हालत में उन्हें मेरठ रेफर कर दिया गया। 

पौड़ी के जुलेटिया निवासी फौजी गोविंद सिंह असम रायफल्स की 34वीं बटालियन में मणिपुर में तैनात हैं। छुट्टी पूरी होने पर शुक्रवार को उन्हें आसाम जाना था। घायल फौजी के मुताबिक वह मुरादाबाद रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 6 पर ट्रेन का इंतजार कर रहा था। इस बीच 3-4 युवक आये और उनसे लूट का प्रयास करने लगे। इसके बाद वे उन्हें जबरन साथ ले गए। बदमाशों ने उनसे आईडी व अन्य सामान छीन लिया। विरोध पर बदमाशों ने गंड़ासे से हमला कर फौजी का बायां हाथ शरीर से अलग कर दिया। इससे वे बेहोश हो गए। पुलिस की सूचना पर फौजी के परिजन रविवार को जिला अस्पताल पहुंचे। उन्होंने फौजी की हत्या का प्रयास करने का आरोप लगाया। उधर, गलशहीद थाना पुलिस ने बताया कि यह महज एक हादसा है। 
     
घंटों लहूलुहान पड़े रहे गोविंद सिंह 

गलशहीद थानाक्षेत्र रेलवे ट्रैक पर फौजी गोविंद सिंह लहूलुहान हालात में घंटों ट्रैक पर पड़ा रहा। उसके हाथ से खून नहीं रुक रहा था। उसकी हालत बिगड़ती जा रही थी। गलशहीद थानाक्षेत्र रेलवे ट्रैक पर फौजी गोविंद सिंह जिंदगी और मौत से लड़ रहा था। रात में जब क्षेत्र के कुछ लोग रेलवे ट्रैक पर पहुंचे तो उन्होंने उसको लहूलुहान हालत में देखा। उन्होंने उसको जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। फौजी के अचेत होने से उसकी पहचान नहीं हो सकी। रविवार को पहचान होने पर घटना की जानकारी हुई। हादसे की सूचना पर गोविंद सिंह के भाई धन सिंह मुरादाबाद के लिए रवाना हो गए। धन सिंह से उनके मोबाइल पर संपर्क करने पर उन्होंने इस संबंध में कुछ भी कहने से मना कर दिया है।

जुलाई में रिटायर होने वाले थे गोविंद सिंह

गोविन्द सिंह की काफी साल की नौकरी हो चुकी है। 31 जुलाई को फौजी गोविंद सिंह का कार्यकाल पूरा हो रहा है। एक अगस्त को उनका रिटायरमेंट हैं। परिजनों ने बताया कि इसको लेकर वह काफी उत्साहित थे। उन्होंने पत्नी और बच्चों से बोला था कि वह इस बार ड्यूटी पर जाने के बाद वह अपने रिटायरमेंट पर ही घर वापस लौटेंगे। उनके रिटायरमेंट की परिवार को भी आस थी। परिजन रिटायरमेंट पर परिवार में छोटी सी पार्टी का इंतजाम कर रहे थे। लेकिन अब उनके घायल होने के बाद परिवारवाले उनके स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं। लेकिन होनी को कुछ और ही मंजूर था।  

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Robbers cut the arm of military personnel