DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एकता को खेल रत्‍न : जानिए, हैट्रिक लेने वाली पहली भारतीय महिला क्रिकेटर के बारे में

अंतर्राष्ट्रीय महिला क्रिकेटर एकता बिष्ट को इस साल के खेल रत्न पुरस्कार के लिए चुना गया है। सरकार ने उनके कोच लियाकत अली को द्रोणाचार्य पुरस्कार देने का निर्णय लिया गया है। 

सोमवार को सरकार की ओर से खेल रत्न और द्रोणाचार्य पुरस्कार की घोषणा की गई। हालांकि अभी लाइफ टाइम एचीवमेंट अवार्ड और वैटर्न अवार्ड की घोषणा नहीं की गई है। खेल रत्न और द्रोणाचार्य पुरस्कार की फाइल पिछले एक सप्ताह से शासन में थी। हाई पॉवर कमेटी ने एक सप्ताह पूर्व एकता का नाम शासन को भेज दिया था। राज्य में क्रिकेट संघ नहीं होने की वजह से बीसीसीआई की ओर से एकता और लियाकत के नाम पर संस्तुति दी गई। सचिव खेल भूपेंद्र कौर औलख ने बताया कि खेल रत्न और द्रोणाचार्य पुरस्कार की घोषणा के बाद अब जल्दी ही लाइफ टाइम एचीवमेंट और वैटर्न अवार्ड पर भी निर्णय लिया जाएगा।

उत्तराखण्ड खेल रत्न : एकता बिष्ट 

  • जन्मतिथि- 8 फरवरी 1986
  • जन्म स्थान- खजांची मोहल्ला, अल्मोड़ा
  • पिता- कुंदन सिंह बिष्ट
  • माता- तारा बिष्ट
  • क्रिकेटर- भारतीय महिला क्रिकेट टीम

एकता बिष्ट, एक नजर

  • आईसीसी महिला वनडे विश्व कप की उपविजेता टीम की प्रमुख स्पिनरों में शुमार थी एकता 
  • नॉर्थ जोन में एकता कुमाऊं विवि की कप्तान भी रह चुकी हैं। 
  • एकता ने जून 2011 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी-20 क्रिकेट से अंतरराष्ट्रीय कैरियर की शुरुआत की
  • जुलाई 2011 में वनडे और अगस्त 2014 में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया
  • 46 अंतरराष्ट्रीय वन डे मैचों में एकता के नाम 71 विकेट लिए हैं। 
  • 36 टी-20 में 45 और 1 टेस्ट में 3 विकेट चटकाए हैं। 
  • एकता टी-20 विश्व कप क्वालीफायर में हैट्रिक करने वाली पहली भारतीय महिला गेंदबाज हैं। वनडे विश्व कप क्वालीफायर और वन डे विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ 5-5 विकेट लेने वाली इकलौटी महिला गेंदबाज भी हैं।

देवभूमि उत्तराखंड द्रोणाचार्य पुरस्कार : लियाकत अली

  • जन्मतिथि- 7 अगस्त 1970
  • जन्म स्थान- एनटीडी, अल्मोड़ा
  • पिता- मोहम्मद अली खान
  • माता- गुलजार बेगम
  • कोच- क्रिकेट, कुमाऊं विश्वविद्यालय 1995 से

एक नजर

  • एकता बिष्ट को साल 1999 में पहली बार क्रिकेट की बारीकियां सिखाने के बाद क्रिकेट के फलक तक पहुंचाने वाले लियाकल अली ने खुद साल 1982 में क्रिकेट खेलने की शुरुआत की थी। दाएं हाथ के मीडियम पेसर लियाकत अली ने 1985 में सीके नायडू ट्रॉफी में उत्तर प्रदेश की ओर से खेले। 1988 से 1992 तक कुमाऊं विश्वविद्यालय से नॉर्थ जोन खेले। 1992 में कुमाऊं विश्वविद्यालय के कप्तान भी रहे। 
  • 1994 में गुजरात के गांधीनगर से नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स(एनआईएस) का डिप्लोमा हासिल करने के बाद 1995 में कुमाऊं विवि के एसएसजे कैंपस में कोच बने। उत्तराखंड अलग बनने के बाद उत्तरांचल वूमेन क्रिकेट एसोसिएशन की टीम के 2003 से 2006 तक लगातार कोच बने। साथ ही साल 2005 में सेंट्रल जोन महिला टीम के कोच भी नियुक्त किए गए। लियाकत अली साल 2002 से 2006 तक सेंट्रल जोन में बतौर चयनकर्ता भी नियुक्त रहे। 

क्रिकेटर एकता बिष्ट को उत्तराखण्ड खेल रत्न, कोच भी होंगे सम्मानित

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Profile of women cricketer Ekta Bisht