DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गर्भ उत्सव संस्कार में गर्भवती महिलाओं को किया जागरुक

गर्भ उत्सव संस्कार में गर्भवती महिलाओं को किया जागरुक

गायत्री परिवार दून की ओर से गायत्री केंद्र बड़ोवाला में रविवार को गर्भ उत्सव संस्कार का आयोजन किया गया। इस में आसपास की 13 गर्भवती महिलाओं ने प्रतिभाग किया।

कार्यक्रम के दौरान गर्भवती महिलाओं को प्रोजेक्टर के माध्यम से संतान, इसकी सुरक्षा और पालन पोषण के बारे में बारीकी से समझाया गया। पुंसवन संस्कार का संपादन बीना ठाकरे और सत्येश्वरी रावत की ओर से किया गया। विशेषज्ञों ने गर्भवती महिलाओं से कहा कि पेट में पल रही संतान में 80 प्रतिशत संस्कारों का बीजारोपण गर्भकाल में ही हो जाता है। यह प्रक्रिया दिखाई नहीं देती बल्कि अदृश्य रूप से चलती रहती है। इस प्रक्रिया के दौरान गर्भवती महिला के मन के अच्छे और बुरे विचार और भावनाएं शिशु अपनी स्मृति में समेट लेता है। वह पूरी तरह से आत्म चैतन्य होता है। गर्भवती महिलाओं को बताया गया कि इस दौरान वह अपने आचार, विचार और आहार को उत्तम रखें। वह अपनी दिनचर्या को भी व्यवस्थित रखें। ताकि शिशु पर इसका अनुकूल प्रभाव पड़ सके। इस दौरान गर्भवती महिलाओं को हर पल अपने स्वास्थ्य की सुरक्षा और रक्षा किए जाने के प्रति भी जागरुक किया गया। गर्भ उत्सव संस्कार के दौरान जय राम, चंद्रशेखर जोशी, सुरेश डंगवाल, दिनेश मैखुरी, डा. तत्वदर्शी, डा. सौदान सिंह आदि उपस्थित रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pregnant women in pregnancy celebration be made aware