DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तराखंड  ›  देहरादून  ›  फेफड़े संक्रमित, ऑक्सीजन कम, फिर भी जीत ली कोरोना से जंग

देहरादूनफेफड़े संक्रमित, ऑक्सीजन कम, फिर भी जीत ली कोरोना से जंग

हिन्दुस्तान टीम,देहरादूनPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:00 AM
फेफड़े संक्रमित, ऑक्सीजन कम, फिर भी जीत ली कोरोना से जंग

देहरादून। कार्यालय संवाददाता

रोडवेज कर्मचारी सुशील ने मजबूत इच्छाशक्ति से कोरोना से जिंदगी की जंग जीत ली। 85 फीसदी फेफड़े संक्रमित होने और ऑक्सीजन लेवल 40 से नीचे आने के बाद भी हार नहीं मानी। डॉक्टरों की राय मानी और अब करीब एक माह बाद कोरोना को मात देकर घर वापसी की।

देहरादून निवासी उत्तराखंड रोडवेज में उप लेखाकार सुशील कुमार अप्रैल में कोरोना संक्रमण हुए। परिजनों ने उन्हें यमुनानगर (हरियाणा) के एक अस्पताल में भर्ती कराया। जांच में पाया गया कि कोरोना संक्रमण से उनके फेफड़ों में 85 फीसदी इंफेक्शन हो गया है। ऑक्सीजन लेवल भी लगातार गिर रहा था। परिजन घबरा गए। ऐसे वक्त में डॉक्टरों ने उन्हें हौसला बनाए रखने की सलाह दी। धीमान ने न केवल कोरोना को मात दी, बल्कि फेफड़ों के इंफेक्शन में भी सुधार किया। 29 अप्रैल को उनका ऑक्सीजन लेवल 40 तक पहुंच गया। धीमान की कोरोना रिपोर्ट पांच मई को निगेटिव आ गई थी, लेकिन इसके बाद भी उन्होंने एहतियात बरतनी नहीं छोड़ी। लगातार डॉक्टरों की निगरानी में रहे। सुशील ने बताया कि अस्पताल में हरियाणा सरकार की ओर से व्यवस्थाएं अच्छी रहीं। कहा कि उत्तराखंड रोडवेज के अधिकारियों ने भी संपर्क बनाए रखा और इलाज के खर्च का सारा बिल भुगतान करने का आश्वासन दिया।

कोरोना संक्रमित कर्मचारियों को हमने इलाज के लिए ढाई लाख रुपये तक दिए हैं। सुशील धीमान से भी हम लगातार संपर्क में थे। जब देहरादून के अस्पतालों में बेड खाली हुए तो हमने उन्हें यहां शिफ्ट करने की भी तैयारी कर दी थी, लेकिन उन्होंने मना कर दिया था, इलाज के लिए उन्होंने पैसे की डिमांड नहीं की, यदि अभी करते हैं तो उन्हें नियमानुसार पैसा दिया जाएगा।

-आशीष चौहान, प्रबंध निदेशक, रोडवेज

संबंधित खबरें