DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुरु के आर्दशों को अपनाना ही सच्ची गुरुभक्ति है: सौरभ

जैन समाज की ओर से मुनि सौरभ सागर महाराज के सानिध्य में गुरुपूर्णिमा महोत्सव हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि विधानसभ अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि गुरु पूर्णिमा के दिन गुरु का आशीर्वाद लेना सौभाग्य की बात है। मुनि तरुण सागर को नमन करते हुए उन्होंने कहा कि जैन मुनि तरुण सागर की साधना और तपस्या का कोई विकल्प नही है।

मंगलवार को प्रिंस चौक स्थित जैन धर्मशाला में गुरुपूर्णिमा महोत्सव का शुभारंभ दिगंबर जैन महासमिति की वीरांगनों ने मंगलाचरण की प्रस्तुति से किया। इसके बाद रजत पुष्प वर्षा योग समिति के संयोजक सुभाष जैन और दिनशे जैन ने आचार्य पुष्पदंत महाराज के चित्र का अनावरण कर कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत की। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल और अल्पसंख्यक आयोग अध्यक्ष आरके जैन ने मुनि सौरभ सागर महाराज को श्रीफल भेंटकर उनका आशीर्वाद लिया। इस मौके पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि सौरभ सागर महाराज के दर्शन कर अलग अनुभूति हो रही है। गुरु के बिना मनुष्य जीवन के किसी भी क्षेत्र में सफल नही हो सकता। चार महीने दून प्रवास पर पहुंचे मुनि सौरभ सागर से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष डा.आरके जैन ने कहा कि मुनि सौरभ सागर की सराहना करते हुए कहा कि देवभूमि में एक और देव के आगमन से प्रदेश की भूमि धन्य हो गई।

ऋषिकेश से जो आएगा ऋषि के पास जरुर आएगा: सौरभ

कार्यक्रम में ऋषिकेश से पहुंचे विधानसभा अध्यक्ष का स्वागत करते हुए मुनि सौरभ सागर महाराज ने अपनी आशीर्वाद प्रवचन में कहा कि जो ऋषिकेश से आएगा वह ऋषि के पास जरुर आएगा। कहा कि गुरु पूर्णिमा के दिन संत के चरण छूना ही काफी नही है, बल्कि गुरु के आर्दशों को अपनाना ही सच्ची गुरु भक्ति है।

25 दीपक से हुई आरती

25 वां वर्षायोग और गुरुपूर्णिमा के उपलक्ष्य में श्रद्धालुओं की ओर से मुनिश्री को 25 शास्त्र और श्रीफल भेंट किए गए। इस दौरान 25 दीपक से आरती कर श्रद्धालुओं ने गुरु सौरभ सागर महाराज से आशीर्वाद प्राप्त किया।

यह लोग रहे मौजूद

दिनेश जैन, हर्ष जैन, सुकुमार जैन, संजय जैन, विनोद जैन, संदीप जैन, अनिल जैन, राजीव जैन, राहुल जैन, मंजू जैन, पूर्णिमा जैन, सुनैना जैन, मोनिका, दिव्या, सुप्रिया, मुकेश जैन आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: It is true gurabhakata to adopt the principles of a guru Saurabh