DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भगवान बदरीनाथ को मुकेश अंबानी ने चढ़ाए कमल के फूल, सादगी से किए दर्शन

बदरीनाथ धाम पहुंचे उद्योगपति मुकेश अंबानी ने श्रीहरि के चरणों में कमल के फूल भेंट किए। बदरीनाथ में कमल के फूल नहीं मिलते। बताया जा रहा है वह मुंबई से अपने साथ फूल लेकर आए थे। उद्योगपति मुकेश अंबानी ने मीडिया से सिर्फ इतना कहा कि वह देश की जनता के कल्याण के लिए भगवान बदरीनाथ के दर्शन किए हैं। 
खास बात यह रही कि आम श्रद्धालुओं को परेशान किए बगैर उन्होंने सादगीपूर्वक तरीके से भगवान के दर्शन किए। उन्होंने भगवान बदरीनाथ को माखन-मिश्री का प्रसाद भेंट किया। साथ ही तुलसी की माला और पंचमेवा भी चढ़ाए। उनकी पूजा के दौरान श्रद्धालुओं को नहीं रोका गया। श्रद्धालुओं के बीच से होकर उद्योगपति अंबानी मंदिर के अंदर गए। उनके दौरे के दौरान विशेष प्रोटोकॉल नजर नहीं आया। 

काफिले में शामिल थे चार हेलीकॉप्टर
इसस पहले सुबह 9.30 बजे मुकेश अंबानी का विशेष हेलीकॉप्टर बदरीनाथ में राज्य सरकार के हेलीपैड पर पहुंचा। उनके काफिले में चार हेलीकॉप्टर शामिल थे। यहां से वह पहले बदरी-केदार मंदिर समिति के गेस्ट हाउस में गए। फिर 9.46 बजे उन्होंने गेट नंबर दो से मंदिर के अंदर प्रवेश किया। वह पैदल ही मंदिर तक पहुंचे। इस बीच श्रद्धालुओं के बीच से होकर वह गुजरे।

आम श्रद्धालुओं को नहीं किया परेशान
उन्होंने आम श्रद्धालुओं को परेशान किए बगैर मंदिर में जाने का फैसला लिया। हालांकि वह वीआईपी गेट से अंदर गए, लेकिन इस दौरान आम श्रद्धालुओं का प्रवेश नहीं रोका गया। दूसरी तरफ से आम श्रद्धालु भी दर्शन करते रहे। जबकि इससे पहले हुए वीआईपी मूवमेंट के दौरान आम श्रद्धालुओं को रोका जा रहा था, लेकिन इस बार ऐसा देखने को नहीं मिला। उनके इस सादगीपूर्ण तरीके की सभी ने प्रशंसा की। सुबह 10.05 बजे वह मंदिर से बाहर निकले। इसके बाद वह केदारनाथ धाम के लिए रवाना हो गए। वह इस समय भगवान केदारनाथ के दर्शन कर रहे हैं।

छोटे भाई की धर्मशाला में किया पांच मिनट आराम
मंदिर से निकलने के बाद मुकेश अंबानी रिलायंस ग्रुप की धर्मशाला कोकिला धीराज निवास में पहुंचे। यहां उन्होंने पांच मिनट आराम किया। यह धर्मशाला इस समय उनके छोटे भाई अनिल अंबानी के पास है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Industrialist Mukesh Ambani visited Lord Badrinath and Kedarnath temple