ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंड देहरादूनट्रेडिंग के नाम पर पूर्व प्रोफसर से 49 लाख की ठगी

ट्रेडिंग के नाम पर पूर्व प्रोफसर से 49 लाख की ठगी

सिंगापुर की कमोडिटी ट्रेडिंग कंपनी में निवेश के नाम पर एक पूर्व प्रोफेसर से 49 लाख रुपये ठग लिए गए। आरोपी गैंग ने झांसे में लेने के लिए पीड़िता को...

ट्रेडिंग के नाम पर पूर्व प्रोफसर से 49 लाख की ठगी
हिन्दुस्तान टीम,देहरादूनWed, 21 Feb 2024 07:15 PM
ऐप पर पढ़ें

देहरादून, वरिष्ठ संवाददाता। सिंगापुर की कमोडिटी ट्रेडिंग कंपनी में निवेश के नाम पर एक पूर्व प्रोफेसर से 49 लाख रुपये ठग लिए गए। आरोपी गैंग ने झांसे में लेने के लिए पीड़िता को अपना पार्टनर बनाने की भी पेशकश की। फर्जी तरीके से ट्रेडिंग अकाउंट में लाभ भी दिखाया और खुद भी पैसे जमा करने बताए। प्रोफेसर करोड़ों के लाभ में से केवल पांच हजार रुपये ही निकाल पाई। उनका निवेश ही 49 लाख रुपये था। अब इस मामले में राजपुर थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है।
एसओ पीडी भट्ट ने बताया कि मामले में डॉ. कल्याणी रंगराजन निवासी राजपुर ने तहरीर दी। वह एक यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर थीं। कोरोना काल में उनकी नौकरी चली गई। इस बीच उनके पति डॉ. टी रंगराजन को व्हाट्सएप पर जीआईसी ट्रेडिंग कंपनी सिंगापुर से किसी जिना का फोन आया। उसने रेड वाइन और गोल्ड में निवेश करने पर अच्छे लाभ की बात कही। उनके पति ने हामी भर दी। इस पर जिना ने उनका ट्रेडिंग अकाउंट खोल दिया। इसमें उन्होंने शुरुआत में 20 हजार रुपये जमा किए। ट्रेडिंग की तो उनके अकाउंट में लाभ दिखाया गया। इसमें से उन्होंने पांच हजार रुपये निकाल लिए। इससे ज्यादा रकम निकालने की अनुमति नहीं दी गई। इसके कुछ दिन बाद 2021 में उन्होंने फिर कभी 16 लाख तो कभी 20 लाख इस तरह रकम जमा कर दी। उनका ट्रेडिंग अकाउंट में कुल बैलेंस 1.98 करोड़ रुपये दर्शाया जा रहा था। मगर, इसमें केवल पांच हजार रुपये ही निकालने की अनुमति दी जा रही थी। इसके कुछ दिन बाद जिना ने कहा कि वह इस कंपनी में उन्हें पार्टनर बना रही है। इसके लिए जिना ने 50 लाख रुपये भी इसमें जमा करना दर्शाया। पिछले काफी समय से वह अपनी रकम निकालने का प्रयास कर रहे हैं। वह निकाल नहीं पाए। डॉ. कल्याणी के मुताबिक उन्होंने इस कंपनी में कुल 49 लाख रुपये जमा किए हैं। एसओ ने बताया कि मामले में मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें