DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्य तिथि पर गोष्ठी आयोजित

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्य तिथि गोष्ठी का आयोजन किया गया। इसमें ‘कश्मीर अनुच्छेद 370 से पहले, 370 के बाद’ विषय पर वक्ताओं ने विचार रखे। कहा कि यह धारा देश को बांटने वाली धारा थी। इसके हटने कश्मीर विकास की मुख्य धारा में आएगा और आतंकवाद समाप्त होगा। देश का प्रत्येक नागरिक धारा के हटने से खुश है, कुछ पाकिस्तान समर्थित ताकतें इस फैसले का विरोध कर रही है। शुक्रवार को कैंट विधानसभा के इंदिरानगर स्थित होटल में आयोजित गोष्ठी में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी गई। कैंट विधायक हरबंस कपूर ने कहा कि स्व. अटल बिहारी की पीएम रहते हुए बहुत कोशिशें रही कि जम्मू कश्मीर 370 और 35ए से मुक्त हो, लेकिन ये मुमकिन न हो सका। पीएम नरेंद्र मोदी ने उनका सपना साकार कर किया है। धारा के हटने से कश्मीर का चहुमुखी विकास होगा और पूरे देश में एक ही कानून मान्य होगा।

मुख्य वक्ता पेट्रोलियम विवि विधि विभाग की प्राध्यापक विशाल शर्मा ने अनुच्छेद 370 और 35ए पर अपने विचार रखे। सोशल मीडिया एक्टीविस्ट निधि बहुगुणा ने कहा कि कश्मीर इतिहास के हर काल में भारत का हिस्सा था। कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35ए हटाना सराहनीय योग्य फैसला है। जनता का समर्थन मिलेगा तो सरकार पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर को भी वापस लाएगी। बौद्धिक प्रमुख सुशील कुमार ने कहा कि 370 और 35ए हट गई। जम्मू कश्मीर अध्यन केंद्र ने इसमें अपनी बड़ी भूमिका निभाई है। पीओके और सीओके में भी हमें यही सोच रखनी होगी। इस मौके पर भाजपा महानगर अध्यक्ष विनय गोयल, मंडल अध्यक्ष उदय सिंह, हरीश कोहली, महामंत्री संतोष कोठियाल, पीएल सेठ, बबलू बंसल,भूपाल चंद, राजेंद्र सोम, मोना कौल, रतन सिंह चौहान, पार्षद शुभम नेगी, रमेश काला, मीरा कठैत, अर्चना पुंडीर, मीनाक्षी मौर्य, सोनू कुमार, अंजू बिष्ट, विनोद  रावत, अनिता मल्होत्रा आदि मौजूद रहे।


 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:former pm ab vajpayee was given homage in remembrance ceremony held in dehradun