Five ways to invest in income tax rebate - इनकम टैक्स में छूट चाहिए तो अभी से शुरू कर दें निवेश, जानिए 5 तरीके DA Image
20 नबम्बर, 2019|3:50|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इनकम टैक्स में छूट चाहिए तो अभी से शुरू कर दें निवेश, जानिए 5 तरीके

tax free Rs 20 lakh gratuity

नए वित्तीय वर्ष के लिए अभी से इनकम टैक्स बचत के लिए निवेश की योजना बनाना फायदेमंद रहेगा। इससे पहला लाभ तो यह होगा कि अलग-अलग योजनाओं में थोड़ा-थोड़ा निवेश कर जहां टैक्स बचाया जा सकता है। इन योजनाओं में निवेश का भी सीधा लाभ आपको वित्तीय वर्ष की शुरुआत से ही मिलना शुरू हो जाएगा। आमतौर पर आयकर अधिनिमय की धारा 80सी के तहत अलग-अलग योजनाओं में निवेश डेढ़ लाख रुपये तक निवेश कर टैक्स छूट ले सकते हैं।

1. होम लोन पर छूट

सीए रजत शर्मा बताते हैं कि हाउस लोन पर टैक्स छूट दो तरह से मिलती है। हाउस लोन में चुकाने में जो मूल धन लौटते हैं, वह धारा 80सी के तहत डेढ़ लाख रुपये की सीमा तक आती है। यानी आप अगर सिर्फ हाउस लोन पर सालाना डेढ़ लाख रुपये मूलधन लौटा रहे हैं तो फिर आपको 80सी के तहत छूट देने वाली दूसरी योजनाओं में निवेश करने की जरूरत नहीं है। जबकि हाउस लोन पर सालाना चुकाए जाने वाले ब्याज पर डेढ़ लाख रुपये के अतिरिक्त छूट मिलती है। इसमें अधिकतम दो लाख रुपये तक की छूट ली जा सकती है।

2. बचत योजनाएं 

सीए रोमिल जैन के मुताबिक धारा 80 सी के तहत विभिन्न बचत योजनाओं में सालाना डेढ़ लाख रुपये तक निवेश कर टैक्स छूट ले सकते हैं। मसलन पीपीएफ, सुकन्या समृद्धि योजना, इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम, यूलिप, पांच वर्षीय टैक्स सेविंग फिक्स डिपोजिट, नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट, जीवन बीमा प्रीमियम, यूलिप में निवेश कर टैक्स छूट ले सकते हैं। इन तमाम योजनाओं में अधिकतम डेढ़ लाख रुपये निवेश तक टैक्स छूट में आता है।

3. मेडिकल इंश्योरेंस बनेगा सहारा

इंश्योरेंस एक्सपर्ट विवेक चौहान के मुताबिक मौजूदा समय में जिस तरह से मेडिकल सुविधा महंगी हो रही है, उसमें मेडिकल इंश्योरेंस जरूरी हो गया है और यह टैक्स बचत का बेहतर विकल्प भी है। इसमें 25 हजार रुपये का प्रीमियम टैक्स फ्री है और अगर आपने इसमें माता-पिता का मेडिक्लेम लिया है और उनकी उम्र 60 वर्ष से अधिक है तो 30 हजार रुपये तक का सालाना प्रीमियम टैक्स फ्री है। अगर आप किराए के मकान पर रहते हैं तो मकान किराया पर भी कर छूट मिलती है। 

4. बच्चों की फीस 

बच्चों की स्कूल फीस के जरिए भी धारा 80 सी के तहत टैक्स छूट ले सकते हैं। यानी यह 80सी में निवेश सीमा डेढ़ लाख रुपये के दायरे में आती है। इसमें दो बच्चों की सालाना ट्यूशन फीस पर सीधे-सीधे टैक्स छूट ले सकते हैँ। जबिक उच्च शिक्षा के लिए एजुकेशन लोन के चुकाए गए ब्याज पर अतिरिक्त छूट मिलती है।

5. पेंशन फंड भी बेहतर विकल्प

आयकर बचत के लिए पेंशन फंड भी बेहतर विकल्प है। फाइनेंस एक्सपर्ट विनीश माथुर के मुताबिक पेंशन फंड और नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) में निवेश कर भी छूट का दायरा बढ़ाया जा सकता है। अटल पेंशन योजना में निवेश के तहत जहां 80सी के तहत टैक्स छूट के दायरे में आता है, वहीं एनपीएस में निवेश में भी कर छूट का दायरा बढ़ाया जा सकता है। विनीश माथुर के मुताबिक एनपीएस में डेढ़ लाख तक का निवेश धारा 80सी के तहत कर छूट योग्य है। साथ ही 50,000 अतिरिक्त निवेश कर छूट का दायरा दो लाख रुपये तक बढ़ा सकते हैं। 50 हजार रुपये की छूट आयकर की धारा 80सी के अतिरिक्त होगी। यह छूट सिर्फ एनपीएस के टेयर-1 में ही मिलती है। जबिक टेयर-2 स्कीम में निवेश पर किसी तरह की कर छूट नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Five ways to invest in income tax rebate