DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेता की पत्नी समेत पांच शिक्षक गुपचुप तरीके से देहरादून अटैच, विरोध भी शुरू

सुगम के स्कूलों में डटे रसूखदार शिक्षकों का अटैचमेंट खत्म करने के आदेश के चंद दिन बाद ही शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे सवालों के घेरे में आ गए हैं। शिक्षा मंत्री के निर्देश पर माध्यमिक शिक्षा निदेशालय में एक विशेष शिकायत निवारण प्रकोष्ठ का गठन करते हुए कुछ रसूखदार शिक्षकों को गुपचुप ढंग से अटैच कर दिया गया है। ये सभी शिक्षक दुर्गम में तैनात थे। सोशल मीडिया पर टीचरों ने इसके खिलाफ मुहिम छेड़ दी है। 

सूत्रों के अनुसार इन शिक्षकों में भाजपा के एक वरिष्ठ पदाधिकारी का दखल भी खूब चला है। बताया जा रहा है कि इनमें शामिल एक शिक्षिका भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष और कद्दावर नेता ज्योति गैरोला की पत्नी भी हैं। सूत्रों के अनुसार माध्यमिक शिक्षा निदेशक आरके कुंवर ने पांच शिक्षकों को निदेशालय में शिकायत निवारण प्रकोष्ठ में अटैच किया है। 

प्रकोष्ठ में अचैट किए गए इन पांच शिक्षकों में शैलेश जोशी (नैनीताल), प्रणय बहगुणा (रुद्रप्रयाग), उमेश शाह (यूएसनगर), उषा गैरोला (टिहरी) और कमलेश्वर प्रसाद (टिहरी) से हैं। उषा गैरोला भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष और कद्दावर नेता ज्योति गैरोला की पत्नी हैं। संपर्क करने पर भाजपा के उपाध्यक्ष गैरोला ने भी अटैचमेंट होने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि इस व्यवस्था से निसंदेह शिक्षकों की समस्याओं की सुनवाई का प्रभावी मंच मिलेगा। ये गुपचुप अटैचमेंट इन दिनों शिक्षा विभाग में चर्चा का विषय बने हुए हैं। पर, मामला सरकार से जुड़ा होने के नाते शिक्षा विभाग के अफसरों ने होंठ सिले हुए हैं। 

नाम न छापने की शर्त पर एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा इन अटैचमेंट से बाकी शिक्षकों के सवालों का जवाब देना भारी पड़ जाएगा। यदि शिकायत निवारण प्रकोष्ठ बनाना ही था तो निदेशालय में बिना काम के टाइम पास कर रहे कुछ अधिकारिओं और कर्मचारियों को लगाया जा सकता था। वैसे ही प्रदेश में शिक्षकों की कमी है। ऐसे में विज्ञान विषय के शिक्षकों को अटैच करना समझ से परे है।

शिक्षा विभाग में इन दिनों यह मामला चर्चा का विषय बना हुआ है। उधर, शिक्षा निदेशालय में गुपचुप गठित शिकायत निवारण प्रकोष्ठ में कुछ शिक्षकों के अटैचमेंट होने से शिक्षा विभाग में जबरदस्त असंतोष है। सोशल मीडिया पर सरकार के इस फैसले की कड़ी आलोचना की जा रही है। शिक्षक हैरान है कि शिक्षा में सुधार के फैसलों के बीच सरकार से यह कैसी चूक हो गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Five teachers Dehradun Attach