DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुविधा: दून अस्पताल पंद्रह अगस्त से हो जाएगा ई-अस्पताल

 Sultanpur district hospital, kidney treatment


राष्ट्रीय हेल्थ मिशन (एनएचएम) के तहत दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल 15 अगस्त से ई-अस्पताल बन जाएगा। ई-अस्पताल बनने के बाद यहां आने वाले मरीजों को एक यूनिक हेल्थ आईडी उपलब्ध कराई जाएगी। इस आईडी में मरीज की पूरी मेडिकल हिस्ट्री ऑनलाइन दर्ज की जाएगी। इसके माध्यम से मरीज देश के किसी भी ई-अस्पताल में जाकर डाक्टर को अपनी पूरी जानकारी दे सकेगा। इससे आसानी से उसका इलाज हो सकेगा। दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल के प्राचार्य डा. प्रतीप भारती गुप्ता के मुताबिक ई-अस्पताल बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। एनएचएम के तहत इस काम को देख रही प्राइवेट एजेंसी सिल्वर टेक के इंजीनियरों ने डाक्टरों और अन्य स्टॉफ को इसकी ट्रेनिंग भी दी है। उम्मीद है कि 15 अगस्त से ई-अस्पताल बना दिया जाएगा। बताया कि नेत्र रोग विभाग के एचओडी डा. सुशील कुमार ओझा को इसका नोडल अधिकारी बनाया है। वह एजेंसी के इंजीनियरों से समन्वय बनाकर इस प्रक्रिया को पूरा कराएंगे।
ऐसे होगा काम : नोडल अधिकारी डा. सुशील कुमार ओझा के मुताबिक ई-अस्पताल हो जाने पर पर्ची कटने के बाद आईडी और बारकोड जनरेट किया जाएगा, इसके आधार पर संबंधित मरीज अपना इलाज करवा सकेंगे। पर्ची पर ही दर्ज होगा कि मरीज को कहां जाना है। किस डॉक्टर से मिलना है, रेफर होने पर कागज नहीं है तो कोई दिक्कत नहीं, ई-सुविधा होने से मरीज की पूरी हिस्ट्री और की गई जांचें की डिटेल मिल जाएगी। इस तरह की सुविधा होने से मरीज देश के किसी भी ई-हॉस्पिटल में अपना इलाज बिना किसी दिक्कत के करवा सकेगा। मरीज डाटा वेबसाइट पर अपलोड किया जाएगा। 
प्रदेश में यह अस्पताल भी बनेंगे ई-अस्पताल 
कोरोनेशन अस्पताल देहरादून, बेस अस्पताल हल्द्वानी, जिला अस्पताल अल्मोड़ा, जिला अस्पताल ऊधमसिंह नगर, मेडिकल कालेज श्रीनगर गढ़वाल, मेडिकल कालेज हल्द्वानी और महिला और जिला अस्पताल हरिद्वार, एसपीएस ऋषिकेश। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:doon hospital becomes e hospital from 15 august