DA Image
5 जून, 2020|9:51|IST

अगली स्टोरी

मांग- राज्य के हर स्कूल में 50 छात्रों पर नियुक्त हो एक शारीरिक शिक्षक

default image

प्रशिक्षित बेरोजगारों ने राज्य के प्रत्येक स्कूल में 50 छात्रों पर एक शारीरिक शिक्षक नियुक्त करने की मांग उठाई है। इसे लेकर संगठन ने शनिवार को दून स्थित अधोईवाला से दूसरे चरण का ऑन लाइन धरना प्रदर्शन आरंभ किया।

राजकीय और अशासकीय विद्यालयों में व्यायाम शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर प्रशिक्षित बेरोजगारों ने इसके लिए अपने घर पर परिवार सहित धरना प्रदर्शन किया। इसके लिए बाकायदा सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया गया। बीपीएड एमपीएड प्रशिक्षित बेरोजगार संगठन के अंतर्गत युवा बेरोजगार सोशल मिडिया के जरिए एक दूसरे को अपने घर में दिए जाने वाले धरना प्रदर्शन की फोटो और वीडियो भी शेयर कर रहे हैं। जिसमें प्रदेश सरकार के खिलाफ नाराजगी व्यक्त की गई है।

उधर ऑन लाइन जारी इस प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे संगठन के प्रदेश अध्यक्ष जगदीश चंद्र पांडेय ने कहा है कि बीपीएड एमपीएड प्रशिक्षित बेरोजगार लंबे समय ये एनसीईआरटी की गाइडलाइन के मुताबिक राज्य में विभिन्न स्कूल में शिक्षकों और प्रवक्ताओं के पद भरने की मांग कर रहे हैं। लेकिन सरकार ने अभी तक इस पर कोई गौर नहीं किया। जिसे लेकर युवा बेरोजगारों में भारी रोष है।

पांडेय ने कहा कि राज्य भर में करीब 14 हजार से अधिक बीपीएड एमपीएड प्रशिक्षित बेरोजगार हैं। इसे दुर्भाग्य ही कहा जा सकता है कि प्रशिक्षित बेरोजगार ही एक ऐसा वर्ग है जिनकी न्यायोचित मांगों पर राज्य बनने से लेकर अभी तक नेताओं और सरकारों ने कोई काम नहीं किया। वर्ष 2005 से वह लगातार अपनी मांगों को लेकर प्रदेश भर में संघर्ष कर रहे हैं।

- इन्होंने दिया धरना

संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष हरेंद्र खत्री, प्रदेश प्रभारी अर्जुन लिंगवाल, सुमन सिंह नेगी, हिमांशु राजपूत, आलौक नैथानी, अनिल राज, मनोज असवाल, रामलाल शाह, मनमोहन सिंह, भजन लाल सकलानी, कौशल वर्मा, पल्लवी कुकरेती, परीक्षा सकलानी आदि शमिल रहे।

- ये है मुख्य मांग

राज्य की प्राथमिक उच्च प्राथमिक स्कूलों में वर्षवार प्रत्येक 50 छात्रों पर एक शारीरिक शिक्षक की नियुक्ति हो। एलटी में दो रेगुलर शारीरिक शिक्षक और प्रत्येक माध्यमिक विद्यालयों में दो रेगुलर शारीरिक शिक्षक नियुक्त हों। इसके अलावा एक मुख्य शारीरिक शिक्षा अध्यापक और प्रत्येक 100 छात्रों पर एक अन्य एडहॉक सहायक शारीरिक शिक्षक संविदा के तौर पर नियुक्त हो। जब भी रेगुलर परमानेंट सीनियर शाशीरिक शिक्षक रिटायर हो तो उसके स्थान पर संविदा वाले शारीरिक शिक्षक को रेगुलर नियुक्ति दी जाए। प्रवक्ता पदों पर पर भी नियुक्ति हो। नियुक्तियों को लागू करने के अलावा प्रत्येक विद्यालय में खेल,शारीरिक शिक्षा और योग को अनिवार्य विषय बनाकर इसे लागू किया जाए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Demand- a physical teacher should be appointed on 50 students in every school of the state