DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मां के शव के साथ चार दिन तक घर में रहा दिव्यांग बेटा, घटना आपको झोकझोर देगी

रुड़की में एक मानसिक रूप से दिव्यांग लड़का कहता रहा कि उसकी मां कुछ दिन से न बोल रही है और न ही कुछ खा रही है, लेकिन लोगों ने उसकी बात का यकीन नहीं किया। कोई उसकी मदद को नहीं आया, सब उससे बचते रहे। आखिर बुधवार जब उसने जिद पकड़ ली तो कुछ लोग अंदर झांकने गए तो उनके होश उड़ गए। अंदर बुजुर्ग महिला का शव पड़ा हुआ। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। बताया जा रहा है कि महिला चार दिन पहले मर गयी थी। तब से दिव्यांग बेटा अपनी मां के शव के साथ रह रहा था।  

अंबर तालाब में वृद्धा का शव चार दिन तक घर में पड़ा रहा। वृद्धा के साथ उसका मानसिक रूप से दिव्यांग बेटा भी रहता था। वह लोगों को कह रहा था कि उसकी मां बात नहीं कर रही है और कुछ खा नहीं रही। पहले लोगों को उसकी बातों पर यकीन नहीं हुआ। बाद में जब लोग घर पहुंचे तो मामले का पता चला।
गंगनहर कोतवाली के अंबर तालाब में जटियों वाले मोहल्ले में अस्सी वर्षीय सरोज अपने मानसिक रूप से दिव्यांग बेटे के साथ रहती थी। महिला का एक और पुत्र भी है। वह इन दिनों से बाहर गया हुआ था। महिला का मानसिक रूप से दिव्यांग पुत्र तीन-चार दिनों से लोगों को कह रहा था कि उसकी मां उठ नहीं रही है। वह कुछ खा भी नहीं रही है और बात भी नहीं कर रही है। 

पहले लोगों को उसकी बात पर यकीन नहीं हुआ। बुधवार को उसने कुछ लोगों से घर चलने की जिद की। इसके बाद कुछ लोग घर पहुंचे तो अंदर वृद्धा का शव पड़ा हुआ था। दिव्यांग पुत्र चार दिन तक मृत मां के साथ घर में ही रहा। मामले की सूचना गंगनहर पुलिस को दी गई। इंस्पेक्टर गंगनहर कमल कुमार लुंठी ने बताया कि महिला कुछ समय से बीमार चल रही थी। उसका एक और पुत्र भी है। शव करीब चार दिन पुराना है। बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। आसपास के लोगों ने बताया कि महिला का पति बिजली मिस्त्री था और कुछ साल पहले उसकी मौत हो गई थी। इंस्पेक्टर ने बताया कि महिला के दूसरे पुत्र के आने का इंतजार किया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Dead body of woman was lying in house for four days