अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस ने टिहरी झील में कैबिनेट बैठक पर कसा तंज, मौजमस्ती और फोटो सेशन करार दिया

टिहरी झील में कैबिनेट बैठक के आयोजन से एक ओर जहां भाजपाई गदगद हैं और बैठक को ऐतिहासिक और अविस्मरणीय बता रहे हैं। वहीं कांग्रेसियों ने टिहरी झील में बैठक के आयोजन पर सवाल खड़े किए हैं। टिहरी बांध प्रभावित और विस्थापितों की समस्याओं के समाधान पर विचार नहीं करने पर कांग्रेसियों ने बैठक को खोदा पहाड़, निकली चुहिया करार दिया है।

बुधवार को बौराड़ी के एक होटल में प्रेस वार्ता को सम्बोधित करते हुए कांग्रेस के जिलाध्यक्ष सूरज राणा ने कहा कि कांग्रेस ने टिहरी झील में कैबिनेट बैठक के आयोजन का स्वागत कर डीएम के माध्यम से सीएम को 13 सूत्रीय मांग पत्र प्रेषित किया था। जिसमें सरकार से टिहरी की ज्वलंत समस्याओं के निराकरण की मांग की थी। लेकिन सरकार ने एक भी समस्या पर विचार तक नहीं किया। उन्होंने कहा टिहरी में पहली बार हुई कैबिनेट बैठक से क्षेत्र वासियों को समस्याओं के निराकरण की आस जगी थी। लेकिन बैठक में टिहरी बांध प्रभावित 17 गांव के 415 परिवारों और पुरानी टिहरी विस्थापितों की समस्याओं के निस्तारण के लिए कोई निर्णय नहीं लिया गया।

कांग्रेस प्रवक्ता शांतिप्रसाद भट्ट ने कहा कि भाजपा के मंत्री, विधायकों, कार्यकर्ताओं ने टिहरी झील में कैबिनेट बैठक के नाम पर मौजमस्ती कर फोटो सेशन करवाया। कांग्रेसियों ने सरकार से बांध प्रभावितों का विस्थापन, हनुमंत रावत कमेटी की सिफारिशों पर नई टिहरी में निशुल्क पानी, बिजली उपलब्ध कराने सहित जनहित के 15 कार्य पूरे नहीं करने पर सरकार से इस्तीफे की मांग की। इस मौके पर महिला जिलाध्यक्ष दर्शनी रावत, नरेन्द्रचंद रमोला, मुर्तजा बेग, विजय गुनसोला, पद्म सिंह कुमांई, साब सिंह सजवाण, प्रदीप भट्ट, जगदम्बा प्रसाद, नरेन्द्र राणा, राकेश राणा, ममता उनियाल, सीमा कृषाली, विजयलक्ष्मी थलवाल, याकूब सिद्दकी, शकुन्तला नेगी आदि मौजूद थे।

इधर, टिहरी विधायक धन सिंह नेगी ने टिहरी झील में कैबिनेट बैठक के आयोजन को ऐतिहासिक और अविस्मरणीय बताते हुए बैठक के आयोजन के लिए सरकार का धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होंने कहा कि बैठक में सरकार ने टिहरी झील को पर्यटन विभाग की शीर्ष प्राथमिकता वाली योजनाओं में रखने का निर्णय लिया है। भाजपा कार्यालय में प्रेस को संबोधित करते हुए टिहरी विधायक धन सिंह नेगी ने कहा कि टिहरी झील में सरकार की कैबिनेट बैठक का आयोजन अविस्मरणीय और ऐतिहासिक है। बैठक में साहसिक पर्यटन के लिए नियमावली तैयार करने और टिहरी में अवस्थापना विकास को व्यवस्थित करने का निर्णय लिया गया है। आने वाले भविष्य में टिहरी झील पर्यटन स्थल के रूप में पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करेगी। इस मौके पर जिलाध्यक्ष संजय नेगी, सुषमा उनियाल, बेबी असवाल, गोपीराम चमोली, विनोद रतूड़ी, रतन सिंह पंवार, रामलाल नौटियाल, सतवीर पुण्डीर, विजय कठैत, उदय रावत, कुसुम चैहान, पवन, अक्षत आदि मौजूद थे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Congress questions Cabinet meeting in Tehri Lake