अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चारधाम के कपाट खुले, यात्रा के दौरान अगर कोई मुश्किल आए तो उठाएं ये कदम

विश्व प्रसिद्ध चारधाम यात्रा शुरू हो गयी है। बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुल चुके हैं। 18 अप्रैल को गंगोत्री–यमुनोत्री, 29 को केदारनाथ, जबकि 30 को बदरीनाथ के कपाट खुले हैं। सरकार का दावा है कि यात्रियों के लिए सभी सुविधाएं पूरी कर ली गई हैं।

इस बार चारधाम यात्रा में यात्रियों की स्वास्थ्य सुविधा पर विशेष ध्यान दिया गया है। इस बार चार धाम यात्रा में रिकॉर्ड संख्या में यात्रियों के पहुंचने की उम्मीद है। ऐसे में यात्रियों को कोई दिक्कत पेश न आए, इसके लिए परिवहन, संचार समेत स्वास्थ्य सुविधाओं पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। पर्यटकों के पंजीकरण के साथ ही वाहनों के पंजीकरण को लेकर भी पंजीकरण केंद्रों की संख्या बढ़ाई गई है। ऋषिकेश के पंजीकरण केंद्र को हाईटेक बनाया जा रहा है। यात्रियों को यात्रा से जुड़ी हर जानकारी देने को विशेष मोबाइल एप तैयार किया जा रहा है। इसके जरिये पर्यटकों, श्रद्धालुओं को यात्रा से जुड़ी सटीक जानकारियां मिलेंगी। 

ऑल वेदर रोड से असुविधा 

यात्रा मार्गों पर इन दिनों ऑल वेदर रोड परियोजना का काम चल रहा है। इस वजह से जगह जगह सड़कों पर मलबा जमा है। इससे यात्रियों को लम्बे जाम और खराब सड़कों का सामना करना पड़ सकता है। 

इन बातों का ध्यान रखें 

- जाम-सड़क बंद की स्थिति देखते हुए पैक्ड भोजन साथ लेकर आएं 
- सड़क खराब होने की स्थिति में पैदल चलने के लिए छड़ी की भी जरूरत हो सकती है 
- ऋषिकेश से यात्रा से पहले मौसम अपडेट लें
- सामान्य बीमारियों की दवाई साथ लेकर आएं 
- बुजुर्ग यात्रा से पहले डॉक्टर की सलाह लें

आपदा प्रबंधन कंट्रोल रूम नंबर 

01352710232
01352710233 

ये तथ्य जानिए 

310 किमी है दिल्ली से गंगोत्री धाम की दूरी (हरिद्वार, ऋषिकेश, चंबा, टिहरी, धरासू, उत्तरकाशी से होते हुए) 
416 किमी है दिल्ली से यमुनोत्री की दूरी (हरिद्वार, देहरादून, मसूरी, जानकीचट्टी तक सड़क मार्ग तथा 6 किमी पैदल है यमुनोत्री)

कंट्रोल रूम तैयार 

चार धाम यात्रा से जुड़ी किसी भी तरह की जानकारी व परेशानी पर श्रद्धालु कंट्रोल रूम से संपर्क कर सकते हैं। पर्यटन विकास परिषद में कंट्रोल रूम तैयार किया गया है। यहां सुबह सात बजे से लेकर रात नौ बजे तक पर्यटक, श्रद्धालुओं को हर तरह की जानकारी दी जाएगी।  इसके साथ ही बुकिंग के लिए जीएमवीएन की साइट से बुकिंग की जा सकती है।

कंट्रोल रूम के नंबर 

01352559898, 01352552628, 01352552627, 01352552626, टोल फ्री नंबर 1364

यहां पंजीकरण 

पर्यटन विभाग के अनुसार ऋषिकेश में बस टर्मिनल में यात्रियों, पर्यटकों का बायोमेट्रिक पंजीकरण करेगा। इसके साथ ही 14 दूसरे स्थानों पर भी पंजीकरण होगा। 

जीएमवीएन ने भी बढ़ाई टैंट की संख्या 

केदारनाथ धाम में रात में श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ने पर उनके रुकने का भी इंतज़ाम किया गया है। जीएमवीएन ने टैंट की संख्या पिछली बार की तुलना में इज़ाफ़ा किया है। 250 नए टैंट मंगाए गए हैं।
 
सुविधाओं को और सुधारा जाएगा : अधिकारी 

सचिव पर्यटन दलीप जावलकर का कहना है कि चारधाम यात्रा में इस बार पर्यटकों, श्रद्धालुओं की सुविधाओं का खास ख्याल रखा गया है। पंजीकरण से लेकर स्वास्थ्य सुविधाओं पर विशेष फोकस किया गया है। आने वाले समय में सुविधाओं को और सुधारा जाएगा।

यहां आने वाले यात्री हमारी अतिथि : सीएम 

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने श्री बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने के अवसर पर सभी तीर्थयात्रियों, श्रद्धालुओं के साथ ही प्रदेश की जनता को शुभकामनायें दी हैं। कहा कि आवागमन की सुविधा होने से यहां की यात्रा सर्व सुलभ है। अतिथि देवो भवः देवभूमि उत्तराखण्ड की परम्परा रही है, यहां आने वाला व्यक्ति हमारा अतिथि हैं।

यात्रा के दौरान जारी रहेगी रोड कटिंग 

राज्य सरकार ने चारधाम यात्रा के दौरान ऑल वेदर रोड के कटिंग और ब्लास्टिंग के काम पर रोक लगाई थी। लेकिन केंद्रीय सड़क एवं राजमार्ग मंत्रालय ने रोक से इनकार किया है। मंत्रालय के चीफ इंजीनियर ओपी श्रीवास्तव ने कहा कि यात्रियों की सुविधा का ध्यान रखते हुए रोड के सभी कार्य जारी रहेंगे। उन्होंने कहा कि निर्माण कंपनी को परियोजना दो साल के भीतर पूरी करनी है। ऐसे में परियोजना के कोई भी कार्य बंद नहीं होंगे। 

बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर में कार्ड स्वैप कर दीजिए चढ़ावा, Paytm की भी सुविधा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Char Dham Yatra Uttarakhand Important Helpline Number