अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तराखंड : चारधाम यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालु ये बातें जरूर जान लें

विश्व प्रसिद्ध चारधाम यात्रा बुधवार से गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुलने के साथ शुरू हो जाएगी। केदारनाथ-बदरीनाथ के कपाट इसी महीने के अंत में खुलेंगे। सरकार का दावा है कि यात्रियों के लिए सभी सुविधाएं पूरी कर ली गई हैं।

ऑल वेदर रोड से असुविधा 

यात्रा मार्गों पर इन दिनों ऑल वेदर रोड परियोजना का काम चल रहा है। इस वजह से जगह जगह सड़कों पर मलबा जमा है। इससे यात्रियों को लम्बे जाम और खराब सड़कों का सामना करना पड़ सकता है। 

इन बातों का ध्यान रखें 

- जाम-सड़क बंद की स्थिति देखते हुए पैक्ड भोजन साथ लेकर आएं 
- सड़क खराब होने की स्थिति में पैदल चलने के लिए छड़ी की भी जरूरत हो सकती है 
- ऋषिकेश से यात्रा से पहले मौसम अपडेट लें
- सामान्य बीमारियों की दवाई साथ लेकर आएं 
- बुजुर्ग यात्रा से पहले डॉक्टर की सलाह लें

आपदा प्रबंधन कंट्रोल रूम नंबर 

01352710232
01352710233 

ये तथ्य जानिए 

310 किमी है दिल्ली से गंगोत्री धाम की दूरी (हरिद्वार, ऋषिकेश, चंबा, टिहरी, धरासू, उत्तरकाशी से होते हुए) 
416 किमी है दिल्ली से यमुनोत्री की दूरी (हरिद्वार, देहरादून, मसूरी, जानकीचट्टी तक सड़क मार्ग तथा 6 किमी पैदल है यमुनोत्री)

कंट्रोल रूम तैयार 

चार धाम यात्रा से जुड़ी किसी भी तरह की जानकारी व परेशानी पर श्रद्धालु कंट्रोल रूम से संपर्क कर सकते हैं। पर्यटन विकास परिषद में कंट्रोल रूम तैयार किया गया है। यहां सुबह सात बजे से लेकर रात नौ बजे तक पर्यटक, श्रद्धालुओं को हर तरह की जानकारी दी जाएगी।  इसके साथ ही बुकिंग के लिए जीएमवीएन की साइट से बुकिंग की जा सकती है।

कंट्रोल रूम के नंबर 

01352559898, 01352552628, 01352552627, 01352552626, टोल फ्री नंबर 1364

यहां पंजीकरण 

पर्यटन विभाग के अनुसार ऋषिकेश में बस टर्मिनल में यात्रियों, पर्यटकों का बायोमेट्रिक पंजीकरण करेगा। इसके साथ ही 14 दूसरे स्थानों पर भी पंजीकरण होगा। 

यात्रा के दौरान जारी रहेगी रोड कटिंग 

राज्य सरकार ने चारधाम यात्रा के दौरान ऑल वेदर रोड के कटिंग और ब्लास्टिंग के काम पर रोक लगाई थी। लेकिन केंद्रीय सड़क एवं राजमार्ग मंत्रालय ने रोक से इनकार किया है। मंत्रालय के चीफ इंजीनियर ओपी श्रीवास्तव ने कहा कि यात्रियों की सुविधा का ध्यान रखते हुए रोड के सभी कार्य जारी रहेंगे। उन्होंने कहा कि निर्माण कंपनी को परियोजना दो साल के भीतर पूरी करनी है। ऐसे में परियोजना के कोई भी कार्य बंद नहीं होंगे। 

बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर में कार्ड स्वैप कर दीजिए चढ़ावा, Paytm की भी सुविधा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Char Dham Yatra Uttarakhand Important Helpline Number