ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंड चम्पावतरेडियोलॉजिस्ट-फिजीशियन दो दो, बच्चों का डॉक्टर एक भी नहीं

रेडियोलॉजिस्ट-फिजीशियन दो दो, बच्चों का डॉक्टर एक भी नहीं

चम्पावत जिले में स्वास्थ्य विभाग की सेवाएं चरमरा गई हैं। यहां डीएच में रेडियोलॉजिस्ट और फिजीशियन तो दो-दो हैं, लेकिन जिले के सबसे बड़े अस्पताल में...

रेडियोलॉजिस्ट-फिजीशियन दो दो, बच्चों का डॉक्टर एक भी नहीं
हिन्दुस्तान टीम,चम्पावतWed, 21 Feb 2024 10:00 PM
ऐप पर पढ़ें

चम्पावत जिले में स्वास्थ्य विभाग की सेवाएं चरमरा गई हैं। यहां डीएच में रेडियोलॉजिस्ट और फिजीशियन तो दो-दो हैं, लेकिन जिले के सबसे बड़े अस्पताल में बच्चों का डॉक्टर तक तैनात नहीं है। ईएनटी सर्जन भी स्वास्थ्य कारणों से इस समय अवकाश में चल रहे हैं।
चम्पावत में कान, नाक और गले के अलावा बच्चों से संबंधित बीमारियों के उपचार के लिए लोगों को मैदानी क्षेत्र की दौड़ लगानी पड़ रही है। जिला अस्पताल में अल्ट्रासाउंड के लिए रेडियोलॉजिस्ट हैं। साथ ही दो फिजीशियन की भी यहां पर तैनाती है। लेकिन बाल रोग विशेषज्ञ का पद खाली है। इसके अलावा प्रसव को आ रही गर्भवती महिलाओं को तो यहां पर उपचार मिलना मुसीबत हो गया है। पूर्व विधायक हेमेश खर्कवाल का कहना है कि सीएम को इस मसले का गंभीरता से संज्ञान लेना चाहिए। उनकी विस के ये हाल हैं तो प्रदेश के अन्य जिलों का क्या हाल होगा। लोहाघाट, पाटी, बाराकोट, चम्पावत क्षेत्र से प्रतिदिन औसतन पांच गर्भवती महिलाएं रेफर की जा रही हैं।

--

मंत्री के दावे भी हवाई साबित हुए

स्वास्थ्य मंत्री धन सिंह रावत ने जिला अस्पताल में शीघ्र बाल रोग विशेषज्ञ के तैनाती की बात कही थी। सीएमओ डॉ. केके अग्रवाल ने मंत्री के चम्पावत दौरे पर बाल रोग विशेषज्ञ की तैनाती का मामला रखा था, लेकिन मंत्री के दावे भी हवाई साबित हुए। एनआईसीयू नहीं होने से नवजात शिशु को भी निजी अस्पतालों को रेफर किया जा रहा है। इस कारण गरीब तबके के लोगों को आर्थिक रूप से नुकसान उठाना पड़ रहा है।

--

सरकार एक तरफ महिलाओं के सशक्तिकरण की बात कर रही है, दूसरी तरफ सीएम की विस में गर्भवती महिलाओं को उपचार नहीं मिल पा रहा। क्या सरकार उन डॉक्टरों का जवाब तलब कर रही है जो प्रसव कराने से मना कर रहे हैं या फिर निजी अस्पताल भेज रहे हैं। न तो विभाग के अधिकारी गंभीर हैं न सरकार। चम्पावत के जिला अस्पताल की नाजुक हालत ठीक करने की जरूरत है।

- संगीता शर्मा, प्रदेश प्रवक्ता, आप।

--

गर्भवती महिलाओं को बेहतर उपचार देने का हरसंभव प्रयास किया जा रहा है। ईएनटी सर्जन का ऑपरेशन हुआ है, वह शीघ्र ज्वाइन करेंगे। बाल रोग विशेषज्ञ की तैनाती लंबे समय से नहीं है। इस मामले में सीएमओ स्तर से निदेशालय को पत्राचार किया गया है।

- डॉ. पीएस खोलिया, पीएमएस, चम्पावत।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें