ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंड चम्पावतऐतिहासिक हिंग्लादेवी मंदिर का सौंदर्यीकरण होगा

ऐतिहासिक हिंग्लादेवी मंदिर का सौंदर्यीकरण होगा

ऐतिहासिक हिंग्लादेवी मंदिर का सौंदर्यीकरण होगा। बर्ड वॉचिंग ट्रेल योजना में सौंदर्यीकरण के कार्य को शामिल किया गया है। योजना के तहत मंदिर में...

ऐतिहासिक हिंग्लादेवी मंदिर का सौंदर्यीकरण होगा
हिन्दुस्तान टीम,चम्पावतTue, 14 May 2024 09:45 PM
ऐप पर पढ़ें

ऐतिहासिक हिंग्लादेवी मंदिर का सौंदर्यीकरण होगा। बर्ड वॉचिंग ट्रेल योजना में सौंदर्यीकरण के कार्य को शामिल किया गया है। योजना के तहत मंदिर में यात्री टिन शेड, रेलिंग समेत तमाम कार्य होंगे। बर्ड वॉचिंग ट्रेक रूट का निर्माण 20 लाख रुपये से किया जाना है।
मां हिंग्लादेवी मंदिर को संवारा जाएगा। इससे पूर्व पर्यटन विभाग ने मंदिर के ट्रेक रूट में बर्ड वॉचिंग ट्रेल्स का प्रस्ताव तैयार किया था। योजना के तहत 20 लाख रुपये से सर्किट हाउस से हिंग्लादेवी मंदिर के बीच घने जंगल में बर्ड वॉचिंग ट्रेल्स बनाया जाएगा। तीन किमी लंबे इस ट्रेक रूट में परंपरागत खड़ंजा बनाया जाएगा। जगह-जगह पर बैंच लगाई जाएंगी। मंदिर और जंगल में उगने वाले पेड़, पौधों और वनस्पतियों की जानकारी देने वाले साइन बोर्ड लगाए जाएंगे। साथ ही पेड़ों में जगह-जगह बर्ड फीडर लगाए जाएंगे। तमाम पक्षियों की जानकारी के लिए बर्ड वॉचिंग ट्रेल्स बनाया जाएगा। लेकिन अब इस प्रस्ताव में संशोधन करते हुए मंदिर में यात्री शेड, रेलिंग और मार्ग सुधारीकरण का काम शामिल किया गया है। नए प्रस्ताव के टेंडर हो गए हैं। शीघ्र यहां काम शुरू किया जाएगा।

मां भगवती के झूला झूलने की है मान्यता

चम्पावत। हिंग्ला देवी को मां भवानी के रूप में पूजा जाता है। धार्मिक मान्यता के अनुसार इस स्थान से मां भगवती अखिलतारणी मंदिर चोटी तक झूला (हिंगोल) झूलती थी। इस वजह से इस स्थान को हिंग्लादेवी कहा जाता है। कहा जाता है कि मंदिर के पास एक बड़ी शिला के पीछे खजाना छिपा है। इस शीला में दरवाजानुमा आकृति बनी है। लोगों का मानना है कि इस खजाने की चाबी मां हिंग्लादेवी के पास है। नवरात्रियों में यहां भक्तों की भीड़ उमड़ती है।

बर्ड वॉचिंग ट्रेल्स में मंदिर के सौंदर्यीकरण के प्रस्ताव को शामिल किया गया है। इसके लिए 20 लाख रुपये का प्रावधान किया गया है। योजना की टेंडर प्रक्रिया पूरी हो गई है। शीघ्र निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा।

अरविंद गौड़, जिला पर्यटन विकास अधिकारी, चम्पावत।

-----

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।