DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस बार भी चैनलाइजेशन के काम पर लग सकता है ग्रहण

टनकपुर के किरोड़ा सहित कुछ अन्य नालों में प्रस्तावित चैनलाइजेशन का काम इस बार भी ग्रामीणों के विरोध के चलते अधर में लटक सकता है। नायकगोठ, उचौलीगोठ और थ्वालखेड़ा के बाद अब खेतखेड़ा और सुआगोठ के लोग भी चैनलाइज के विरोध में उतर गये हैं। उनका कहना है कि रोखड़ों में चैनलाइज का काम हुआ तो इससे आसपास के गांवों में जल भराव और बाढ़ की स्थिति पैदा हो जायेगी। टनकपुर के किरोड़ा नाले में चैनलाइजेशन का काम पिछले दो साल से प्रस्तावित है। ग्रामीणों के विरोध के कारण प्रशासन को हर बार काम से हाथ खींचने पड़े हैं। इस बार भी किरोड़ा नाले में चैनलाइजेशन का प्रस्ताव डीएम को भेजा गया है। चैनलाइजेशन के प्रस्ताव को हरी झंडी मिलने से पहले ही ग्रामीण भड़क गये हैं। खेतखेड़ा तथा सुआगोठ के लोगों का कहना है कि नदी के रोखड़ों से छेड़छाड़ की गई तो शारदा नदी से सटे गांवों में बाढ़ और जल भराव की स्थिति पैदा हो जायेगी। पुष्कर सिंह, ईश्वरी देवी, कौशल्या देवी, उमा देवी, घनश्याम, हीरा सिंह, गोपाल सिंह, भैरव सिंह ने बताया कि ऑलवेदर रोड का मलबा आने से चैनल जाम हुए तो नदी का तेज बहाव तबाही मचा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Due to protests this may also take place on Channel s eclipse