DA Image
15 जुलाई, 2020|10:31|IST

अगली स्टोरी

दो दिवसीय जिला स्तरीय प्रदर्शनी शुरू

दो दिवसीय जिला स्तरीय प्रदर्शनी शुरू

गोपेश्वर में शनिवार को दो दिवसीय जिला स्तरीय इन्सपायर आवार्ड मानक प्रदर्शनी और प्रोजेक्ट प्रतियोगिता का शुभारंभ हो गया है। प्रतियोगिता में जिले के 452 विद्यायलों के 314 बाल वैज्ञानिकों ने अपने मॉडल प्रस्तुत किये। जीआईसी गोपेश्वर में आयोजित कार्यक्रम का उद्घाटन अपर जिलाधिकारी मोहन सिंह बर्निया ने किया। इस आवसर पर उन्होंने कहा कि मानव की मूल प्रवृति अविष्कार और अनुसंधान की है। शिक्षा की विधा विज्ञान और अविष्कार के लिये जिज्ञासा सबसे अधिक जरूरी है। जो बाल मन में सबसे अधिक होती है। उन्होंने बाल वैज्ञानिकों से चयनित ना होने पर निराश न होने और पुनः प्रयास की प्रवृत्ति को बनाये रखने की बात कही। इन्सपायर अवार्ड के बारे में कार्यक्रम के जिला प्रभारी आत्म प्रकाश डिमरी ने बताया कि जिले में वर्ष 2009-10 से कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इसके लिये विज्ञान एवं प्रौद्योगिक विभाग में बाल वैज्ञानिकों द्वारा आवेदन किया जाता है। इसके बाद बाल वैज्ञानिक जिला और राज्य स्तर पर अपने मॉडलों का प्रदर्शन कर राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिभाग करते हैं। बताया कि शोध के लिये सरकार की ओर से प्रत्येक बाल वैज्ञानिक को 10 हजार की धनराशि डीबीटी के माध्यम से चयन में बाद दी जाती है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2020 के लिये जिले से 1756 बाल वैज्ञानिकों द्वारा ऑन लाइन आवेदन किया गया था। इसमें से 314 बाल वैज्ञानिकों का चयन जिला स्तर के लिये किया गया है। इन्सपायर अवार्ड के लिये कक्ष 6 से 10 तक के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। इस मौके पर जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक व कार्यक्रम के नोडल अधिकारी आशुतोष भंडारी, केके डिमरी, डीएस कंडेरी, अनूप खंडूरी, प्रदीप बिष्ट, भगत कंडवाल आदि मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: 314 child scientists presented models