अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अकारण पदोन्नति रोके जाने से भड़के शिक्षक

आठ सूत्रीय मांगों को लेकर उत्तराखंड माध्यमिक शिक्षक संघ की मुख्य शिक्षा अधिकारी कार्यालय में बैठक हुई। बैठक में शिक्षकों ने अकारण रोकी जा रही पदोन्नति पर नाराजगी जताई। इस दौरान शिक्षकों ने शीघ्र समस्या का समाधान नहीं होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी।

बुधवार को आयोजित बैठक में जिला कार्यकारिणी शिष्टमंडल के जिलाध्यक्ष कैलाश अंडोला ने कहा कि सरकार की ओर से शिक्षकों की पदोन्नति अकारण रोकी जा रही है। पूर्व सेवानिवृत्त शिक्षकों को शासनादेश के अनुसार लाभ नहीं दिया जा रहा है। मानदेय प्राप्त पीटीए शिक्षकों को लंबित मानदेय का भुगतान भी नहीं किया जा रहा है। इसके अलावा रिक्त पदों पर भी नियुक्ति नहीं की जा रही है। कहा कि सरकार के इस सुस्त रवैये से शिक्षक बेहद आहत हैं। इसके बाद शिक्षकों ने मुख्य शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन दिया। ज्ञापन में उन्होंने कहा कि शिक्षकों की समस्याओं के समाधान के लिए विभाग और सरकार की ओर से ठोस कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिससे शिक्षकों में रोष व्याप्त है। इस दौरान उन्होंने शीघ्र समस्याओं का समाधान नहीं होने पर 20 सितंबर से उग्र आंदोलन की चेतावनी दी। यहां महामंत्री प्रकाश कालाकोटी, कोषाध्यक्ष प्रकाश टाकुली समेत कई लोग मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Unacceptable Promotions