DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुंवारी के ग्रामीण राशन लेकर प्रशासन ने फिर लौटाए

कुंवारी के ग्रामीण राशन लेकर प्रशासन ने फिर लौटाए

कुंवारी गांव के आपदा पीड़ितों के हंगामे के बाद प्रशासन ने उनकी सुध ली है। कपकोट के एसडीएम ने गांव से आए ग्रामीणों को राशन वितरित किया, लेकिन उनकी दुश्वारियां मात्र राशन बांटे जाने से कम होने वाली नहीं हैं। राशन बांटे जाने पर ग्रामीणों ने कहा कि हालांकि इस राशन से उनके कुछ दिन और कट जाएंगे, लेकिन आगे फिर उनकी अनदेखी की जाएगी। साथ ही ग्रामीणों ने चेताया कि यदि उनका पुनर्वास नहीं हुआ तो वे अब चरणबद्ध तरीके से आंदोलन करेंगे। शनिवार को कुंवारी गांव के करीब 36 ग्रामीणों ने कलक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया था। उन्होंने करीब एक घंटे अफसरों को आपबीती बताई। उन्होंने कहा कि वे सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान से मिल रहे राशन के मोहताज हो गए हैं। गांव में चक्की नहीं है। आटा चक्की बह गई है। वे गेहूं की पिसाई कैसे करेंगे।

उन्होंने यह भी कहा कि गांव की खेती पूरी तरह चौपट हो गई है। प्रशासन उन्हें आम व्यक्ति की तरह राशन सस्ता गल्ला की दुकान से खरीदने को मजबूर कर रहा है। जबकि रोजगार नहीं होन से उनके जेब खाली हो गई है। जिलाधिकारी रंजना राजगुरु के निर्देश पर रविवार को एसडीएम कपकोट ने आपदा पीड़ितों को 50 सोलर कुकर, चीनी, चावल, आटा आदि दिया। ग्रामीणों ने कहा कि वे तीन दिन से बागेश्वर में हैं। ग्राम प्रधान किशन दानू की मदद से वे उनके होटल में रह रहे हैं। उन्होंने कहा कि गांव को जाने वाला रास्ता पूरी तरह बंद हो गया है। वे गढ़वाल के रास्ते गांव पहुंच रहे हैं। इधर, एसडीएम कपकोट रवींद्र बिष्ट ने बताया कि आपदा पीड़ितों को हरसंभव मदद की जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The administration returned again after taking the rural ration of the virgin