DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बैंक अधिकारी बनकर ठगी करने वाले को पुलिस ने दबोचा

बैंक अधिकारी बनकर ठगी करने वाले को पुलिस ने दबोचा

कोतवाली पुलिस ने फर्जी बैंक अधिकारी बन लोगों को ठगने वाले एक शातिर अपराधी को पटना (बिहार) से गिरफ्तार किया है। उस पर जोग्याणी रौ के एक व्यक्ति से मोबाइल पर जानकारी जुटाकर खाते से रुपये उड़ाने का केस दर्ज है। पटना की अदालत से उसे टांजिट रिमांड पर लेकर गुरुवार को न्यायालय में पेश किया गया।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार 29 अप्रैल 2018 को जोग्याणी रौ कठायतबाड़ा निवासी जगदीश लाल चौधरी पुत्र धरमदत्त चौधरी ने कोतवाली में तहरीर दी थी। इसमें उन्होंने बताया कि एक व्यक्ति ने बैंक अधिकारी बनकर फोन पर उनसे खाते से संबंधित जानकारी ली और 69, 998 रुपये निकाल लिए। मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी लोकेश्वर सिंह ने कार्रवाई के लिए आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इसके बाद कोतवाली में 420 का मामला दर्ज किया गया। एसपी ने तत्काल कार्रवाई के लिए टेक्निकल टीम और साइबर सेल को आदेश किए। टीम ने इस प्रकार के धोखाधड़ी करने वालों की जानकारी जुटाने का काम शुरू किया। इसमें मिर्जापुर पेठाई, ईस्ट चंपारण बिहार के विकेश कुमार पुत्र हीरालाल महतो का नाम सामने आया। खोजबीन के दौरान पता चला कि अन्य राज्यों में भी उक्त व्यक्ति इस तरह की धोखाधड़ी में लिप्त है। वह लोगों को बैंक अधिकारी बनकर फोन करता है। उनसे एटीएम कार्ड नंबर, सीवीसी नंबर, मोबाइल पर आया ओटीपी आदि पूछकर उनके खाते से ऑनलाइन अपने खाते में रुपये ट्रांसफर कर लेता है। इसके अलावा वह पेटीएम, फोनपे आदि ऑलाइन एप के माध्यम से भी रुपये ट्रांसफर करा लेता था। कड़ी मेहनत के बाद पुलिस को आरोपी को पकड़ने के लिए आवश्यक लीड मिली। इसके बाद एसपी ने सीओ के पर्यवेक्षण में आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए टीम का गठन किया। टीम ने 23 अप्रैल को पटना बिहार से उसे पकड़ने में सफलता प्राप्त की। पटना की अदालत से उसे टांजिट रिमांड पर लेकर गुरुवार को जिला न्यायालय में पेश किया गया। टीम में एसआई त्रिवेणी प्रसाद, बसंत पंत, इमदाद हुसैन, चंदन राम, हेम चंद्र मठपाल शामिल रहे। इधर, एसपी लोकेश्वर सिंह ने टीम की हौसला अफजाई के लिए नगद पुरस्कार देने की घोषणा की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Police officer cheated by becoming bank officer