DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पांच साल तक बंद रहेगा पिंडारी बुग्याल में चुगान कार्य

पांच साल तक बंद रहेगा पिंडारी बुग्याल में चुगान कार्य

जिले के अंतिम गांव खाती से लगा पिंडारी बुग्याल पांच साल तक बंद रहेगा। इस दौरान यहां किसी तरह का चुगान कार्य नहीं होगा। चारा पत्ती और पेड़ कटान आदि कार्य भी पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेंगे। बुग्याल के संरक्षण के लिए वन विभाग और ग्रामीणों ने यह फैसला लिया है।

रविवार को रेंजर शशि देव की अध्यक्षता में पिंडारी बुग्याल समिति की बैठक हुई। जिसमें बुग्याल के संरक्षण को लेकर चर्चा हुई। ग्रामीणों ने कहा कि बुग्याल को संरक्षित रखने के लिए वह वन विभाग के साथ हैं। उन्होंने कहा कि अगले पांच साल तक कोई भी ग्रामीण बुग्याल में जानवरों को चुगान के लिए नहीं ले जाएगा। उन्होंने बाहर से आने वाले चरवाहों को भी इस बावत जागरूक करने की बात कही। कहा कि अन्य बुग्यालों में चुगान या अन्य कार्य करने से पूर्व ग्रामीण वन विभाग से अनुमति लेंगे। रेंजर देव ने कहा कि पिंडारी की खूबसूरती इन्हीं बुग्यालों से है। जिसे बरकरार रखने के लिए इन्हें संरक्षित करना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों के सहयोग से ही इन्हें सुरक्षित और संरक्षित रखा जा सकता है। यहां उप वन क्षेत्राधिकारी शंकर दत्त पांडे, वन बीट अधिकारी प्रवीण कपकोटी, निशा पांडे, समिति की अध्यक्ष बसंती देवी, हेमा देवी, देवा कुमार, गोविंद सिंह, चंपा देवी, गीता देवी, प्रेम सिंह, लछम सिंह, हयात सिंह आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Pindari will not be boiled in Bugyal for five years