Pindari passage of temporary bridge, return tracking team of Ukraine - पिंडारी मार्ग का अस्थायी पुल बहा, यूक्रेन का ट्रैकिंग दल लौटा DA Image
16 नबम्बर, 2019|4:07|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पिंडारी मार्ग का अस्थायी पुल बहा, यूक्रेन का ट्रैकिंग दल लौटा

पिंडारी मार्ग का अस्थायी पुल बहा, यूक्रेन का ट्रैकिंग दल लौटा

क्षेत्र में हो रही बारिश के कारण पिंडारी मार्ग में कफनी नदी पर बना अस्थायी पुल बह गया है। इससे पिंडारी को जाने वाला मार्ग बाधित हो गया है। मार्ग बाधित हो ने कारण यूक्रेन से आया ट्रैकिंग दल द्वाली से वापस लौट आया।

कफनी नदी पर बना स्थायी पुल वर्ष 2013 की अपादा में बह गया था। इसके बाद यहां पर अस्थायी पुल बनाया गया था।राज्य में पर्यटन आय का एक प्रमुख जरिया है। इसके बावजूद पर्यटन के विकास को लेकर सरकार की अनदेखी का आलम है कि पिंडारी मार्ग पर वर्ष 2013 में बहे पुल अब तक नहीं बन सके हैं। वर्ष 2013 की आपदा में द्वाली, तीख, रिटिंग, लेहबगड़ आदि क्षेत्रों में कफनी और पिंडर नदी में बने पुल बह गए थे। द्वाली सहित पिंडारी को जाने वाले मार्ग पर अन्य पुलों का निर्माण नहीं किया जा सका है। इस कारण पिंडारी जाने वाले देशी, विदेशी पर्यटक आधे रास्ते से ही वापस लौट रहे हैं। विगत दिनों यूक्रेन से पिंडारी ट्रैकिंग रूट पर गया 13 सदस्यीय दल द्वाली में कफनी और पिंडर नदी पर बने लकड़ी के पुल के बह जाने के कारण मायूस होकर वापस लौट गया।गौरतलब है कि पिंडारी ग्लेशियर विश्व प्रसिद्ध ट्रैकिंग रूट है। जहां वर्ष भर देशी- विदेशी पर्यटकों का आना जाना लगा रहता है। इस बीच यूक्रेन से भारत भ्रमण को आया 13 सदस्यीय दल 29 जुलाई को बागेश्वर से पिंडारी के लिए रवाना हुआ था। दल का उद्देश्य ट्रैकिंग था। हिमालया टूर आउटडोर एडवेंचर के गाइड हिमांशु पांडेय के नेतृत्व में यह दल पिंडारी जा रहा था। दलनायक, हिमालयन योगा यूक्रेन की अध्यक्षा सती माता ने बताया कि उनका दल पिंडारी दर्शन के लिए बेहत उत्सुक था। लेकिन यहां कफनी नदी पर पुल बहने के कारण वह वापस लौट आया। शुक्रवार को दल वापस लौट गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Pindari passage of temporary bridge, return tracking team of Ukraine