DA Image
17 सितम्बर, 2020|5:00|IST

अगली स्टोरी

कुपोषण से मुक्त बच्चों के अभिभावकों को किया सम्मानित

कुपोषण से मुक्त बच्चों के अभिभावकों को किया सम्मानित

प्रदेश को कुपोषण मुक्त कराने के लिए महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास विभाग ने सितंबर को पोषण माह के रूप में मनाने का निर्णय लिया है। अति कुपोषित से सामान्य होने वाले बच्चों को के अभिभावकों को विभाग द्वारा सम्मानित किया गया। जिले में इस वक्त 23 अति कुपोषित और 36 कुपोषित बच्चे हैं। गुरुवार को बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में राज्य मंत्री रेखा आर्या की अध्यक्षता में विडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से कुपोषण से मुक्त हुए बच्चों एंव उनके अभिभावको को सम्मानित किया गया। अति कुपोषित बच्चे जो कुपोषण से मुक्त हुए हैं ऐसे बच्चों एंव उनके अभिभावको को सम्मानित किया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कुपोषण के शिकार बच्चों एवं उनके माताओ को कुपोषण से मुक्त कराने के लिए बाल विकास विभाग द्वारा कर्इ महत्वपूर्ण कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं जिसमें गोद भरार्इ एवं पौष्टिक आहार उपलब्ध कराना आदि शामिल हैं। मंत्री, विधायक, जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों द्वारा उकने बेहतर देख-भाल एवं कुपोषण से मुक्त कराने के लिए 9177 कुपोषित एवं अति कुपोषित बच्चों को गोद लिया गया हैं, जिसमें से 1964 बच्चे अति कुपोषण से मुक्त हुए हैं तथा 385 बच्चों के स्वास्थ में सुधार हुआ हैं। जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास राजेंद्र प्रसाद बिष्ट ने मंत्री को बताया कि बागेश्वर में वर्तमान समय तक अति कुपोषित बच्चों की संख्या 23 तथा कुपोषित बच्चों की संख्या 36 हैं। सौम्या, लक्ष्मी तथा काव्या कुपोषित से सामान्य हो गए हैं। उन्हें सम्मानित किया गया। इस अवसर पर अतिकुपोषण से मुक्त हुए बच्चों एवं उनके अभिभावको को शॉल, पोषण किट एवं फलदार वृक्ष देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर सीडीपीओ कपकेाट दीपा धपोला, बागेश्वर सुनीता वर्मा, सुपरवार्इजर रेनू नगरकोटी, सीता धामी, रेवती खेतवाल सहित संबंधित बच्चों के माता-पिता मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Parents of children free from malnutrition honored