DA Image
30 सितम्बर, 2020|11:51|IST

अगली स्टोरी

कुपोषण मुक्त अभियान को जन आंदोलन बनाएं : डीएम

default image

सितंबर को पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है। इस महीने बाल विकास की ओर से तमाम कार्यक्रम किए जाएंगे। इनके सफल क्रियान्वयन को लेकर विकास भवन सभागार में बैठक हुई। डीएम विनीत कुमार ने इस अभियान को जन आंदोलन का रूप देने को कहा। ताकि अधिक से अधिक लोगों को जागरूक कर समाज से कुपोषण को समाप्त किया जा सके।

महिला सशक्तीकरण और बाल विकास विभाग की ओर से आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए डीएम ने कहा कि स्वस्थ शरीर खुशहाल भविष्य का आधार है। इसी परिकल्पना के तहत एक से 30 सितंबर तक पोषण माह मनाया जा रहा है। इस अभियान को सफल बनाने के लिए सभी लोगों की सहभागिता बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि स्वस्थ शरीर के लिए पौष्टिक आहार जरूरी है। इसे देखते हुए गर्भवती महिलाओं को पोषण के बारे में जानकारी अनिर्वाय रूप से उपलब्ध कराई जानी चाहिए। उन्होंने विभागीय अधिकारियों से कार्यक्रमों को लेकर व्यापक प्रचार-प्रसार करने को कहा। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम को सफल बनाने में आंगनबाड़ी, आशा कार्यकत्रियां और एएनएम सहित अन्य जनप्रतिनिधि भी अहम रोल निभा सकते हैं। उन्होंने गर्भवती महिलाओं का पंजीकरण, समय-समय पर लगने वाले टीके आदि की पूर्ण जानकारी देने को कहा। बच्चों, किशोरियों और महिलाओं को खून की कमी को रोकने के लिए जागरूक करने और उन्हें पौष्टिक आहार उपलब्ध कराने को कहा। उन्होंने कहा कि देश को कुपोषण मुक्त करने के लिए राष्ट्रीय पोषण मिशन के तहत 2022 तक जो लक्ष्य रखा गया है, उसी के आधार पर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। सभी उपजिलाधिकारियों व सहायक परियोजना अधिकारी बाल विकास को अपने क्षेत्र में होने वाले कार्यक्रमों की लगातार मॉनिटरिंग करते हुए समीक्षा करने के निर्देश दिए। जिला कार्यक्रम अधिकारी से पोषण माह में होने वाले कार्यक्रमों का दिवसवार प्रारूप तैयार कर पूरा डाटा बनाने को कहा। बैठक में सीडीओ डीडी पंत, सीएमओ डॉ. बीडी जोशी, डीडीओ केएन तिवारी, एसडीएम राकेश चंद्र तिवारी, योगेंद्र सिंह, प्रमोद कुमार, जिला कार्यक्रम अधिकारी राजेंद्र प्रसाद बिष्ट मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Make malnutrition free campaign a mass movement DM