DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्वैराली और अमसरकोट के जंगल धधके

क्वैराली और अमसरकोट के जंगल धधके

जिले के जंगल जाड़े के सीजन में भी धधक रहे हैं। बीती शाम से अमसरकोट और क्वैराली के जंगल आग से जल रहे हैं। जिससे वन संपदा को भारी नुकसान हो रहा है। हिंसक जानवरों का रुख भी आबादी की ओर हो रहा है। आग के धुंए से लोगों के स्वास्थ्य पर भी असर पड़ा है। ग्रामीणों ने वन विभाग से जल्द आग पर काबू पाने की गुहार लगाई है। अमसरकोट और क्वैराली के गांवों में बीती शाम अचानक आग लग गई। देखते ही देखते जंगल धधकने लगा। रात तक जंगल की आग गांवों की ओर आने लगी। ग्रामीणों ने बताया कि वन विभाग की लापरवाही से जंगल जल रहे हैं। उन्होंने बताया कि कई बार विभाग को सूचित किया जा चुका है। इसके बावजूद कोई कर्मचारी आग बुझाने नहीं आ रहा है। आबादी की ओर आग बढ़ने पर ग्रामीण स्वयं आग पर काबू पाने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि आग से वन संपदा को नुकसान हो रहा है। ग्रामीणों को मिलने वाला चारा भी जल कर खाक हो गया है। ग्रामीण गंगा सिंह, विमला देवी, महेश पांडे, महीप पांडे, विक्रम सिंह, अमर सिंह टंगड़िया, भीम सिंह, कुंदन सिंह, गिरीश सिंह आदि ने वन विभाग से जल रहे जंगलों को बचाने की गुहार लगाई। उन्होंने मांग पूरी नहीं होने पर विभाग के खिलाफ आंदोलन करने की चेतावनी दी। इधर वन दरोगा प्रयाग दत्त भट्ट ने कहा कि बारिश नहीं होने से जंगल में सूखी घास हो रही है। किसी ने बीड़ी जलाकर डाल दी होगी। जिससे आग भड़क गई। उन्होंने बताया कि विभाग आग पर काबू पाने का प्रयास कर रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Javal Dhadke of Kawarali and Amsarkot