अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संस्कृत प्रतियोगिता में कंट्रीवाइड अव्वल रहा

उत्तराखंड संस्कृत अकादमी हरिद्वार के तत्वाधान में दो दिवसीय संस्कृत प्रतियोगिता शुरू हो गया। प्रतियोगिता विभिन्न स्कूलों के बच्चों ने प्रतिभाग किया।

बुधवार को सीईओ कार्यालय के सभागार में दो दिवसीय संस्कृत प्रतियोगिता का शुभारंभ विधायक चंदनराम दास ने किया। उन्होंने कहा कि संस्कृत सभी भारतीय भाषाओं का मूल आधार है। संस्कृत शब्द हमारी संस्कृति का परिचायक है। संस्कृत भाषा को बढ़ावा देने के लिए सरकार को प्रयास किए जा रहे हैं। संस्कृत भाषा का अधिक प्रचार- प्रसार हो यह आम भाषा बने ऐसा सरकार चाहती है। इस मौके पर बच्चों के द्वारा अनेक रंगारंग कार्यक्रम का प्रस्तुत किए। सीईओ हरीश चंद्र रावत ने कहा कि संस्कृत सभी भाषाओं की जननी है। भारतीयता की आत्मरक्षा के लिए संस्कृत का ज्ञान होना आवश्यक है। ब्लॉक प्रमुख रेखा खेतवाल ने कहा कि संस्कृत के माध्यम से हमें अपनी संस्कृति का ज्ञान होता है। कार्यक्रम की अध्यक्षता गीता रावल व संचालन दीप चंद्र जोशी ने किया। प्रथम दिवस पर वरिष्ठ वर्ग की संस्कृत, नृत्य, नाटक, समूहगान, आशुभाषण, वाद-विवाद श्लोकाच्चारण सहित कुल 6 प्रतियोगिताएं कराई गई। वरिष्ठ वर्ग की नृत्य प्रतियोगिता में कंट्रीवाइड पब्लिक स्कूल प्रथम, राबाइंका ऐठाण द्वितीय, राबाइंका पाये तृतीय स्थान पर रहा। यहां शिवानी पाठक,वृजेंद्र जोशी,प्रमोद कुमार तिवारी, रमेश कांडपाल डॉ.ललित तिवारी, नीलेश उपाध्याय, राजेश आगरी, मदन मोहन पांडेय, महेश पंत, दिनेश जोशी, इंद्रा रावत, डॉ.यशोदा जोशी, दिनेश नैनवाल रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Government encourages to promote Sanskrit