DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बागेश्वर में कुकुड़ामाई के जंगल में आग

बागेश्वर में कुकुड़ामाई के जंगल में आग

जिले में जंगलों के जलने का सिलसिला थम नहीं रहा है। तीनों ब्लॉकों के कई जंगल आग की चपेट में हैं। इससे वन संपदा को नुकसान हो रहा है। पर्यावरण पर भी इसका बुरा असर पड़ रहा है। वनों के जलने से विभाग के प्रति लोगों में गुस्सा है।

नगर से पांच किमी की दूरी पर कुकुड़ामाई के जंगल पूरी रात जलते रहे। इससे वन संपदा को भारी नुकसान पहुंचा है। कीमती लकड़ियां, चारा जलकर खाक हो गया है। वन्य जीवों का जीवन भी संकट में है। इसके अलावा ब्लॉक के गिरेछीना, कठपुड़ियाछीना, मनकोट आदि के जंगल में भी आग नहीं बुझी है। इससे पर्यावरण प्रदूषित हो रहा है। नगर में धुंआ छाया है। इससे लोगों को परेशानी हो रही है। ग्रामीणों ने बताया कि वन विभाग आग पर काबू पाने में कामयाब नहीं हो रहा है। पहले ही जंगल आधे से अधिक जल गए हैं। अब फायर सीजन शुरू होने से परेशानी और बढ़ गई है। ग्रामीण राजेंद्र सिंह, खीम सिंह, भगवत सिंह, शेर सिंह, फकीर राम, मोहनी देवी, गीता देवी, सरूली देवी आदि ने जल्द वनों को बचाने की गुहार लगाई। गरुड़ में भी धधक रहे जंगलगरुड़ के जंगल भी वनाग्नि की चपेट में हैं। क्षेत्र के गागरीगोल, द्यौनाई, अमोली, बाड़ीखेत, कौसानी आदि के जंगलों में आग लग रही है। वन विभाग की टीम को सूचना देने के बाद भी आग पर काबू नहीं पाया जा सका है। आग से वन्य जीवों का रुख आबादी की ओर हो रहा है। इससे ग्रामीणों में दहशत है। आग से जानवरों का चारा भी पूरी तरह से नष्ट हो चुका है। ग्रामीण दिनेश सिंह, प्रमोद कुमार, महेश सिंह, कुंदन सिंह, मंगल सिंह आदि ने वन विभाग से वनाग्नि रोकने को ठोस उपाय करने की गुहार लगाई।

वन विभाग की टीम जिले के जंगलों पर नजर बनाए है। ग्रामीणों को भी वनाग्नि सुरक्षा के लिए जागरूक किया जा रहा है। कर्मचारी जंगलों की आग बुझाने का प्रयास कर रहे हैं।

आरके सिंह, डीएफओ वन विभाग, बागेश्वर।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Fire in Kukudamai forest in Bageshwar