DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बागेश्वर में एटीएम बने शोपीस

बैंक कर्मी दो दिन की हड़ताल पर चले गए हैं। वहीं एटीएम भी शोपीस बन गए हैं। जिससे उपभोक्ता परेशान हो गए हैं। अब कैश सोमवार से पहले मिलने की उम्मीद भी नहीं है। जिससे लोगों में भारी रोष है। बागेश्वर शहर में 13 एटीएम हैं। बुधवार को सिर्फ दो एटीएम में रुपये निकले। वह भी दोपहर बाद खाली हो गए। बैंकों की हड़ताल से कैश मिलना मुश्किल हो गया है। कैश नहीं मिलने से पर्यटक भी परेशान रहे। बंगाल से आए अनिल विश्वास ने कहा कि कैश नहीं होने से वह छोटी-छोटी जरूरतें पूरी नहीं कर पा रहे हैं। उनके साथ दस लोगों का परिवार है। अमसरकोट गांव के राजेंद्र सिंह ने बताया कि वे एक सप्ताह से लगातार एटीएम पहुंच रहे हैं। लेकिन यहां कैश नहीं है। उन्होंने बताया कि खेती के लिए बीज, खाद आदि खरीद नहीं पा रहे हैं। 52 किमी दूर रीमा से आए कुशाल सिंह ने बताया कि सुबह आठ बजे बागेश्वर पहुंचे। दस बजे तक एटीएम खुलने का इंतजार किया। लेकिन शहर के दस एटीएम खंगाल लिए हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें बिना रुपये लिए घर लौटना पड़ रहा है। बिलौना की पार्वती देवी ने कहा कि यदि रुपये नहीं मिले तो वह घर के लिए जरूर सामान नहीं खरीद पाएंगी। वह शाम तक एटीएम का इंतजार करेंगी।तहसीलों के एटीएम भी पड़े शोपीसगरुड़, काफलीगैर, कांडा, दुग नाकुरी, कपकोट, शामा आदि स्थानों पर एटीएम शोपीस बने हुए हैं। लोग परेशान हैं। व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष बबलू नेगी ने कहा कि बैंक बंद होने से लोगों की परेशानी बढ़ गई है। 24 घंटे और सात दिन चलने वाले एटीएम बंद पड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार को इस पर ध्यान देने की जरूरत है।इंसेट::राष्ट्रीय आवह्वान पर बैंक हड़ताल पर हैं। कैश की कमी है। आरबीआई को रुपये की डिमांड भेजी गई है।-आरएस पतियाल, शाखा प्रबंधक, एसबीआई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ATM made Shoppe in Bageshwar