DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रशासन ने मंडलसेरा में अवैध कब्जा हटाया

मंडलसेरा दक्षिणी वार्ड के कुछ लोगों की शिकायत पर प्रशासन ने सरकारी जमीन पर किया अतिक्रमण को ढहा दिया। इस बात की जानकारी आसपास के लोगों को मिली तो कुछ लोग पीड़िता के पक्ष में आ गए। वे नारेबाजी करते हुए डीएम कार्यालय में जा धमके। कहा कि क्षेत्र में कई लोग सरकारी जमीन में अपना पक्का आशियाना बनाकर रह रहे हैं। उन्हें प्रशासन आज तक नहीं हटा पाया है। परित्यगता महिला को बेघर करना मानवाता के भी खिलाफ है। इस तोड़फोड़ में उसे 40 हजार का नुकसान हो गया है।

मालूम हो कि सोमवार को मंडलसेरा दक्षिण वार्ड की कुछ महिलाओं ने अतिक्रमण हटाने की मांग को लेकर डीएम कार्यालय में प्रदर्शन किया था। इसके बाद प्रशासन हरकत में आ गया। बुधवार को तहसीलदार के नेतृत्व में पुलिस और प्रशासन की टीम मंडलसेरा पहुंची। उन्होंने सरकारी जमीन पर हेमा देवी द्वारा किया गया अतिक्रमण को ढहा दिया। हेमा का आरोप है कि उसे सूचना दिए बिना ही उसका आशियाना तोड़ दिया गया। वह माइके में रहकर अपना जीवन यापन कर रही थी। अतिक्रमण हटाने आए लोगों ने उसका सारा सामान दबा दिया। उसे करीब 40 हजार का नुकसान हुआ है। इसके बाद आसपास के लोग हेमा के पक्ष में आ गए और वे डीएम कार्यालय में धमक गए। यहां उन्होंने जोरदार नारेबाजी के साथ महिला को न्याय देने की मांग की। वक्ताओं ने कहा कि मंडलसेरा में कई लोग सरकारी जमीन कब्जा कर बैठे हैं। उन्हें आज तक नहीं हटाया गया है, जबकि हेमा ने पक्का निर्माण तक नहीं किया है। दस साल से वह यहां रहकर अपने दो बच्चों का भरण-पोषण कर रही थी। पति ने उसे पहले ही छोड़ दिया है। अब उसके सामने बच्चों के भरण-पोषण का संकट पैदा हो गया है। बाद में एसडीएम जयवर्धन शर्मा ने महिलाओं और पीड़ित से बात की। तीन दिन के भीतर समस्या के समाधान का भरोसा दिलाया। इसके बाद पीड़ित और उसके साथ आए लोग शांत हुए। यहां कमला देवी, भावना देवी, भागुली देवी, हंसा देवी, मन्नू थापा, ललित आर्या, दीपक चौबे, दीपक आर्या, हेमा चौबे, भुवन चौबे, चम्पा देवी, हर्षिता देवी, हेमा देवी आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Administration removes illegal occupation in Mandalasera